झारखंड में शारीरिक रूप से अक्षम व्यक्ति को गोकशी के आरोप में भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 23, 2019   11:59
झारखंड में शारीरिक रूप से अक्षम व्यक्ति को गोकशी के आरोप में भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला

पुलिस ने बताया कि पांच लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। घटना के बाद ग्रामीणों ने हिरासत में लिए गए लोगों की रिहाई की मांग को लेकर कारा पुलिस थाने का घेराव किया। उप संभागीय पुलिस अधिकारी रुषभ ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि निर्दोष पाए जाने पर उन लोगों को छोड़ दिया जाएगा, जिसके बाद घेराव खत्म किया गया।

खूंटी। झारखंड के खूंटी जिले में भीड़ ने गोकशी के संदेह में शारीरिक रूप से अक्षम एक व्यक्ति की कथित तौर पर पीट-पीटकर हत्या कर दी जबकि दो अन्य को बुरी तरह से घायल कर दिया। पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि स्थानीय लोगों ने रविवार को कथित तौर पर कालांतस बारला, फागू कच्छप और फिलिप होरो को जलतांगा गांव में नदी के निकट मृत गाय के साथ देखा औरउनकी पिटाई कर दी। बारला की अस्पताल ले जाते वक्त मौत हो गई, बाकी दोनों का रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में इलाज चल रहा है।

इसे भी पढ़ें: धारा 370 का मुद्दा उठाना झारखंड सरकार की विफलताओं से ध्यान हटाने का प्रयास: हेमंत

पुलिस ने बताया कि पांच लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। घटना के बाद ग्रामीणों ने हिरासत में लिए गए लोगों की रिहाई की मांग को लेकर कारा पुलिस थाने का घेराव किया। उप संभागीय पुलिस अधिकारी रुषभ ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि निर्दोष पाए जाने पर उन लोगों को छोड़ दिया जाएगा, जिसके बाद घेराव खत्म किया गया। डीआईजी अमोल वेनुकट होमकर ने पीटीआई भाषा को बताया कि पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है और शुरुआती जांच में घटना में उनकी लिप्तता सामने आई है। पहचान करने की प्रक्रिया चल रही है। उन्होंने कहा कि घटनास्थल की जांच में पुलिस को वहां से मृत गाय नहीं मिली लेकिन भीड़ द्वारा लोगों को पीटने के सबूत जरूर मिले हैं। उन्होंने बताया कि अब तक किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...