दुश्मनों की खैर नहीं ! भारत रूसी Mi-17 हेलिकॉप्टर को इजराइली एंटी टैंक मिसाइल से कर रहा लैस

दुश्मनों की खैर नहीं ! भारत रूसी Mi-17 हेलिकॉप्टर को इजराइली एंटी टैंक मिसाइल से कर रहा लैस
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

एनएलओएस एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल 30 किमी तक की दूरी पर सटीक हमला करने में सक्षम है और इसका निशाना अचूक है। ऐसे में दुश्मन का इस मिसाइल से बच पाना काफी मुश्किल है। सरकारी सूत्रों ने बताया कि भारतीय वायुसेना एमआई-17वी5 हेलिकॉप्टर के बेड़े में नॉन-लाइन ऑफ साइट एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल लगा रही है।

नयी दिल्ली। रूस और यूक्रेन के बीच तकरीबन 2 महीने से युद्ध जारी है। ऐसे में दुनिया ने देखा कि रूस-यूक्रेन युद्ध में एंटी टैंक मिसाइलों में अहम भूमिका निभाई है। जिसके बाद भारत ने इससे सबक लेते हुए रूसी एमआई-17 हेलिकॉप्टर में अहम बदलाव किया है। आपको बता दें कि भारतीय वायुसेना रूसी एमआई-17 हेलिकॉप्टर को इजरायली नॉन-लाइन ऑफ साइट (एनएलओएस) एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों से लैस कर रही है। 

इसे भी पढ़ें: सबसे घातक, महाविनाशक रूस का पराक्रमी हथियार 'Sarmat' लॉन्च, पुतिन बोले- दुश्मनों को दो बार सोचना होगा 

अचूक निशाना लगाती है मिसाइल

एनएलओएस एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल 30 किमी तक की दूरी पर सटीक हमला करने में सक्षम है और इसका निशाना अचूक है। ऐसे में दुश्मन का इस मिसाइल से बच पाना काफी मुश्किल है। समाचार एजेंसी एएनआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि भारतीय वायुसेना एमआई-17वी5 हेलिकॉप्टर के बेड़े में नॉन-लाइन ऑफ साइट एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल लगा रही है। यह मिसाइल लंबी दूरी के लक्ष्य पर सटीक हमला करती है। 

इसे भी पढ़ें: पुतिन को अब तक का सबसे बड़ा नुकसान, रूस का गुरूर कहा जाने वाला मोस्‍कवा ब्लैक सी में डूबा 

आपको बता दें कि संघर्ष के दौरान एमआई-17वी5 हेलिकॉप्टर को इजराइली एंटी टैंक मिसाइल से लैस किए जाने के बाद दुश्मनों के बख्तरबंद वाहनों, टैंक इत्यादि को भारी नुकसान हो सकता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।