समुद्र में और ताकतवर हुआ भारत, नौसेना में शामिल हुई INS Vela

समुद्र में और ताकतवर हुआ भारत, नौसेना में शामिल हुई INS Vela

INS वेला में दो 1250 केडब्ल्यू डीजल इंजन है। इसमें 360 बैटरी सेल्स है। हर एक का वजन 750 किलोग्राम के करीब है। इन्हीं बैटरियों के दम पर आईएनएस वेला 6500 नॉटिकल माइल्स यानी करीब 12000 किलोमीटर का सफर आसानी से तय कर सकती है। इस सफर में 45-50 दिनों का वक्त लग सकता है।

नई दिल्ली  क्लास सबमरीन यानी कि पनडुब्बी INS वेला आज भारतीय नौसेना में शामिल हो गई है। आईएनएस वेला, कलावरी क्लास की चौथी सबमरीन है, जो 221 फीट लंबी, 40 फीट ऊंची और 1565 टन वजनी है। INS वेला में मशीनरी सेट करने के लिए लगभग 11 किलोमीटर लंबी पाइप और करीब 60 किलोमीटर की केबल फिटिंग की गई है। यह सबमरीन स्पेशल स्टील से बनी है, इसमें हाई टेंसाइल स्ट्रेंथ है और यह सबमरीन पानी के अंदर ज्यादा गहराई तक जाकर ऑपरेट करने की ताकत रखती है।

INS वेला में दो 1250 केडब्ल्यू डीजल इंजन हैं। इसमें 360 बैटरी सेल्स है। हर एक  का वजन 750 किलोग्राम के करीब है. इन्हीं बैटरियों के दम पर आईएनएस वेला 6500 नॉटिकल माइल्स यानी करीब 12000 किलोमीटर का सफर आसानी से तय कर सकती है। इस सफर में 45-50 दिनों का वक्त लग सकता है। आपको बता दें कि नौसेना ने अपने बयान में कहा है कि IANSवेला संमदर के अंदर भी अपने हमलों से तबाही मचाने की क्षमता रखती है।

INS वेला की खास बातें जो इसे ताकतवर बनाती हैं

- सबमरीन में एडवांस एकॉस्टिक साइलेंसिंग तकनीक का इस्तेमाल किया गया है।

 - रेडिएटिड नॉइस लेवल भी कम है। 

- सटीक गाइडेड निशाना लगाने वाली ये सबमरीन दुश्मन को अपाहिज बना सकती है।

- पानी और सतह दोनों जगह निशाना लगाया जा सकता है।

- माइन बिछाने, निगरानी जैसे कई मिशन अंजाम दे सकती है सबमरीन।

कलवरी क्लास की चौथी सबमरीन आईएनएस वेला (INS Vela) को मुंबई के मझगांव डॉकयार्ड में बनाया गया है. इससे पहले आईएनएस कलवरी, आईएनएस खंडेरी और आईएनएस करंज भारतीय नौसेना में शामिल हो चुकी हैं। ये सारी सबमरीन फ्रांसीसी स्कॉर्पीन क्लास सबमरीन की तकनीक पर बनाई गई हैं और दुनिया की बेहतरीन सबमरीन में से हैं। इसी तरह दूसरी पनडुब्बी INS खंडेरी को जनवरी 2017 में टेस्ट करने के बाद 2019 में कमिशन किया गया था। वहीं तीसरी पनडुब्बी INS करंज को जनवरी 2018 में लॉन्च करने बाद इसी वर्ष मार्च 2021 में कमिशन किया गया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।