पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के बीच फिर हुई झड़प, भारतीय सेना ने घुसपैठ की कोशिश को किया नाकाम

पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के बीच फिर हुई झड़प, भारतीय सेना ने घुसपैठ की कोशिश को किया नाकाम

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 29-30 अगस्त की रात को चीन की पीएलए पूर्वी लद्दाख में घुसपैठ की कोशिश कर रही थी, जिसे भारतीय सेना के जवानों ने नाकाम करते हुए पीएलए को खदेड़ दिया।

लद्दाख। भारत और चीन के बीच तनाव कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है। बता दें कि 29-30 अगस्त की रात को भारत-चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में ताजा झड़प हुई है वो भी तब जब दोनों देशों के बीच कई स्तर की बातचीत हो चुकी है। इसके अलावा अभी भी चुशूल में ब्रिगेड कमांडर स्तर की फ्लैग मीटिंग हो रही है। 

इसे भी पढ़ें: एलएसी पर नहीं थम रहा चीन का निर्माण कार्य, अब 5जी नेटवर्क कर रहा स्थापित 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 29-30 अगस्त की रात को चीन की पीएलए पूर्वी लद्दाख में घुसपैठ की कोशिश कर रही थी, जिसे भारतीय सेना के जवानों ने नाकाम करते हुए पीएलए को खदेड़ दिया। मिली जानकारी के मुताबिक, सभी जवान सुरक्षित हैं।

सरकार द्वारा जारी किए गए बयान के मुताबिक, 29-30 अगस्त की रात को चीन की पीएलए ने पूर्व में बनी सहमति का उल्लंघन किया है। चीनी सेना ने एक बार फिर से सीमा पर यथास्थिति बदलने की कोशिश की है। 

इसे भी पढ़ें: बाज नहीं आ रहा चीन, अब सिक्किम और अरुणाचल सीमा पर कर रहा निर्माण का प्रयास ! 

इस संबंध में सेना के पीआरओ कर्नल अमन आनंद ने कहा कि भारतीय सेना ने पैंगोंग त्सो लेक के दिक्षीणी हिस्से पर चीन की पीएलए की गतिविधि को न सिर्फ रोका बल्कि पीछे ही खदेड़ दिया। उन्होंने आगे कहा कि भारतीय सेना शांति बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है और बातचीत के जरिए मुद्दे को सुलझाना चाहती है लेकिन इसके साथ ही अपनी सीमाओं की रक्षा के लिए भी समान रूप से दृढ़ है।

गौरतलब है कि गलवान घाटी में 15 जून की रात भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। जिसमें भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। साथ ही साथ चीनी सेना के 43 जवानों के भी हताहत होने की भी खबरें थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।