भारत ने सबसे तेजी से 14 करोड़ कोविड-19 रोधी टीके लगाए: सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2021   16:21
भारत ने सबसे तेजी से 14 करोड़ कोविड-19 रोधी टीके लगाए: सरकार

मंत्रालय ने सुबह सात बजे तक की शुरुआती रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि देश में हुए कुल टीकाकरण में से 58.83 प्रतिशत टीके आठ राज्यों – महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और केरल- में लगाए गए हैं। मंत्रालय ने कहा कि अब तक देश भर में 20,19,263 सत्रों में कुल 14,09,16,417 टीके की खुराक दी गईं।

नयी दिल्ली। भारत दुनिया में अपने नागरिकों को सबसे तेजी से 14 करोड़ कोविड रोधी टीकों की खुराक लगाने वाला देश बन गया है और उसने महज 99 दिनों में इसे अंजाम दिया। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से रविवार को यह जानकारी दी गई। मंत्रालय ने सुबह सात बजे तक की शुरुआती रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि देश में हुए कुल टीकाकरण में से 58.83 प्रतिशत टीके आठ राज्यों – महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और केरल- में लगाए गए हैं। मंत्रालय ने कहा कि अब तक देश भर में 20,19,263 सत्रों में कुल 14,09,16,417 टीके की खुराक दी गईं।

इसमें कहा गया कि इनमें 92,90,528 स्वास्थ्यकर्मियों और 1,19,50,251 अग्रिम पंक्ति के कर्मियों को टीके की पहली खुराक लग चुकी है जबकि 59,95,634 स्वास्थ्यकर्मियों और 62,90,491 अग्रिम पंक्ति के कर्मियों को टीके की दूसरी खुराक लगाई जा चुकी है। वरिष्ठ नागरिकों की बात करें तो 4,96,55,753 को पहली खुराक लग चुकी है जबकि 77,19,730 वरिष्ठ नागरिकों को दूसरी खुराक भी लग चुकी है। वहीं 45 से 60 साल आयुवर्ग के 4,76,83,792 लोगों को टीके की पहली खुराक लगाई जा चुकी है जबकि ऐसे 23,30,238 लोग दूसरी खुराक भी लगवा चुके हैं। मंत्रालय ने रेखांकित किया, “एक अन्य महत्वपूर्व उपलब्धि यह है कि भारत 14 करोड़ टीकाकरण के आंकड़े तक सबसे तेजी से पहुंचने वाला देश बन गया है। भारत ने यह महज 99 दिनों में किया है।” मंत्रालय के मुताबिक टीके की 25 लाख से ज्यादा खुराक बीते 24 घंटों के दौरान दी गई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।