भारत ने एक बार फिर दिखाई दरियादिली, पाकिस्तान को एयरस्पेस के इस्तेमाल की दी मंजूरी

भारत ने एक बार फिर दिखाई दरियादिली, पाकिस्तान को एयरस्पेस के इस्तेमाल की दी मंजूरी

पाकिस्तान ने इमरान खान की श्रीलंका यात्रा के लिए भारत का एयरस्पेस इस्तेमाल करने की अनुमति मांगी थी। जिसकी अनुमति भारत ने दे दी है।

नयी दिल्ली। भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के विमान को भारतीय एयरस्पेस के इस्तेमाल की अनुमति प्रदान की है। बता दें कि इमरान खान अपने मंत्रिमंडलीय सहयोगियों और उच्च स्तर के कारोबारी प्रतिनिधिमंडल के साथ दो दिन की श्रीलंका यात्रा पर जा रहे हैं और इसके लिए उन्होंने भारत का एयरस्पेस इस्तेमाल करने की अनुमति मांगी थी। जिसकी अनुमति भारत ने दे दी है। 

इसे भी पढ़ें: फारूक अब्दुल्ला ने J&K में आतंकवाद खत्म करने के लिए पाकिस्तान से वार्ता की पैरवी की 

इमरान खान श्रीलंका दो दिवसीय यात्रा के लिए जा रहे हैं और वह इस दौरान संसद को संबोधित करने वाले थे। लेकिन श्रीलंका ने इस कार्यक्रम को रद्द कर दिया। कहा जा रहा है कि श्रीलंका ने भारत के साथ संबंधों में टकराव से बचने के लिए ऐसा कदम उठाया है।

जब पाक ने नहीं दी थी इजाजत

साल 2019 में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिका और सऊदी अरब जाना था उस वक्त पाकिस्तान से उनका एयरस्पेस इस्तेमाल करने की अनुमति मांगी थी लेकिन पाकिस्तान ने इनकार कर दिया था। जिसके बाद भारत ने अंतर्राष्ट्रीय नागर विमानन संगठन से इसकी शिकायत की थी। हालांकि दो साल बाद जब पाकिस्तान को श्रीलंका जाने के लिए भारत के एयरस्पेस की जरूरत थी तब भारत भी मना कर सकता था लेकिन ऐसा नहीं किया और उन्हें अनुमति दे दी है। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के कठुआ में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान ने फिर किया सीजफायर का उल्लंघन 

उल्लेखनीय है कि इमरान खान का राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे और प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे से द्विपक्षीय मुलाकात का कार्यक्रम है और इस दौरान व्यापार, निवेश, स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, तकनीक, रक्षा और पर्यटन से जुड़े मुद्दों पर चर्चा होगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।