डॉक्टर की सलाह पर भर्ती हो, भारत के पास पर्याप्त मेडिकल ऑक्सीजन उपलब्ध: स्वास्थ्य मंत्रालय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 26, 2021   19:49
डॉक्टर की सलाह पर भर्ती हो, भारत के पास पर्याप्त मेडिकल ऑक्सीजन उपलब्ध: स्वास्थ्य मंत्रालय

स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी देते हुए आगे कहा कि,ऑक्सीजन का तार्किक इस्तेमाल, रेमडेसिविर,टोसिलिजुमैब जैसी अहम दवाओं का उचित प्रिस्क्रीप्शन महामारी से लड़ने में महत्वपूर्ण।

कोरोना संक्रमण को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय बताया कि भारत में अब तक कोविड-19 टीके की 14.19 करोड खुराक दी गई है, 45 साल उम्र से अधिक उम्र के 9.79 करोड़ लोगों को पहली खुराक दी गई, 1.03 करोड़ लोगों को दूसरी खुराक दी गई है।  स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी देते हुए आगे कहा कि,ऑक्सीजन का तार्किक इस्तेमाल, रेमडेसिविर,टोसिलिजुमैब जैसी अहम दवाओं का उचित प्रिस्क्रीप्शन महामारी से लड़ने में महत्वपूर्ण। सरकार ने कोविड-19 मरीजों से कहा कि, कई लोग भय के कारण अस्पताल के बिस्तरों पर कब्जा जमाए पाए गए हैं, कृपया कर डॉक्टर की सलाह पर भर्ती हो। 

इसे भी पढ़ें: बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने ममता पर लगाया वैक्सीन को लेकर जनता को गुमराह करने का आरोप

सरकार ने कोविड-19 मरीजों द्वारा जीवन रक्षक गैस की कमी का सामना करने के बीच कहा कि, भारत के पास पर्याप्त मेडिकल ऑक्सीजन उपलब्ध है, चुनौती उन्हें अस्पतालों तक पहुंचाने की है। सरकार ने लोगों से अपील की है कि कोविड-19 की मौजूदा स्थिति से लोग घबराएं नहीं, बेवजह की घबराहट से फायदे के बजाय नुकसान अधिक होता है। वहीं सरकार ने अस्पतालों से कहा कि, न्यायोचित तरीके से ऑक्सीजन का इस्तेमाल करें और इसकी बर्बादी रोकें। सरकार ने कोविड-19 महामारी पर आगे कहा कि, अनुसंधान से पता चला है कि अगर सामाजिक दूरी का अनुपालन नहीं किया गया तो एक व्यक्ति 30 दिनों में 406 लोगों को संक्रमित कर सकता है। महिलाएं माहवारी के दौरान टीका ले सकती है या नहीं इसको लेकर सरकार ने जानकारी दी और कहा कि, वह कोविड-19 से प्रतिरक्षा हेतु टीका ले सकती हैं। सरकार ने कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर पर कहा, यह समय है जब लोग अपने घरों के भीतर भी मास्क पहनना शुरू करें। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।