भारत किसी भी स्थिति से निपटने में सक्षम है: रक्षा राज्य मंत्री

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 27, 2019   15:11
भारत किसी भी स्थिति से निपटने में सक्षम है: रक्षा राज्य मंत्री

दो दिवसीय आईडीएसई के उद्घाटन मौके पर उन्होंने सरकार के प्रमुख कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए ‘मेक इन इंडिया’ पहल को ‘भारत में खरीदें’ के साथ जोड़ने पर जोर दिया।

नयी दिल्ली। केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद येसो नाईक ने पाकिस्तान से ड्रोन विमानों से पंजाब में हथियार गिराये जाने की घटनाओं को लेकर शुक्रवार को कहा कि भारत किसी भी स्थिति से निपटने में सक्षम है। उन्होंने आईआईटी-दिल्ली में भारत रक्षा और सुरक्षा एक्सपो (आईडीएसई) 2019, के इतर कहा कि आतंकवाद से लड़ते हुए भारतीय सेना मजबूत हुई है। हाल में पंजाब पुलिस की जांच में यह दावा किया गया है कि जीपीएस लगे और 10 किलोग्राम तक का वजन उठा सकने वाले ड्रोन विमानों ने पाकिस्तान से करीब सात-आठ बार आकर भारत में हथियारों का जखीरा, गोला बारूद और जाली मुद्रा गिराये जो पंजाब के तरनतारन जिले में बरामद किए गए। 

जांच से साथ ही यह संकेत भी मिला है कि ये हथियार जम्मू कश्मीर में आतंकवादी हमलों को अंजाम देने के लिए गिराए गए थे। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि यह पहली बार है कि सीमा पार से पंजाब में हथियार गिराने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया गया। नाईक ने पंजाब में ड्रोन गिराये जाने की घटनाओं के बारे में कहा, ‘‘भारत किसी भी स्थिति से निपटने में सक्षम है और चिंता की कोई बात नहीं है।’’

इसे भी पढ़ें: हम किसी को परेशान नहीं करते, लेकिन हमें जो परेशान करेगा उसे शांति से बैठने नहीं देंगे: राजनाथ

दो दिवसीय आईडीएसई के उद्घाटन मौके पर उन्होंने सरकार के प्रमुख कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए ‘मेक इन इंडिया’ पहल को ‘भारत में खरीदें’ के साथ जोड़ने पर जोर दिया। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है कि रक्षा उद्योग हमारे देश को रणनीतिक स्वतंत्रता की ओर ले जाने के लिए विभिन्न विषयों में समग्र क्षमताओं का निर्माण करने में सक्षम है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।