भारत ने कोरोना वायरस के नये स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ से निपटने के लिए अफ्रीका को सहायता की पेशकश की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 30, 2021   09:30
भारत ने कोरोना वायरस के नये स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ से निपटने के लिए अफ्रीका को सहायता की पेशकश की
प्रतिरूप फोटो

मंत्रालय ने कहा कि किसी भी नई आवश्यकता को या तो द्विपक्षीय रूप से या कोवैक्स के माध्यम से अनुमानित किया जाएगा, इस पर शीघ्र विचार किया जाएगा।

नयी दिल्ली|  अफ्रीका में कोरोना वायरस के नये स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ के सामने आने के मद्देनजर भारत ने सोमवार को कहा कि वह टीके, जीवन रक्षक दवाओं और परीक्षण किट की आपूर्ति सहित महाद्वीप में प्रभावित देशों की मदद करने के लिए तैयार है।

विदेश मंत्रालय (एमईए) ने कहा कि टीकों की आपूर्ति कोवैक्स के माध्यम से या द्विपक्षीय रूप से की जा सकती है।

इसे भी पढ़ें: दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 के नये स्वरूप ने विशेषज्ञों को किया हैरान

मंत्रालय ने कहा कि सरकार ने मलावी, इथियोपिया, जाम्बिया, मोजाम्बिक, गिनी और लेसोथो जैसे अफ्रीकी देशों सहित कोविशील्ड टीकों की आपूर्ति के लिए कोवैक्स द्वारा अब तक दिए गए सभी आदेशों को मंजूरी दे दी है।

मंत्रालय ने कहा कि किसी भी नई आवश्यकता को या तो द्विपक्षीय रूप से या कोवैक्स के माध्यम से अनुमानित किया जाएगा, इस पर शीघ्र विचार किया जाएगा।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘हमने कोविड -19, ओमीक्रोनके एक नए स्वरूप के उद्भव पर ध्यान दिया है। हम उन देशों के साथ अपनी एकजुटता व्यक्त करते हैं, विशेष रूप से अफ्रीका में, जो अब तक ओमीक्रोन स्वरूप से प्रभावित हुए हैं।’’ बयान में कहा गया है, ‘‘भारत सरकार ओमीक्रोन स्वरूप से निपटने में अफ्रीका में प्रभावित देशों का समर्थन करने के लिए तैयार है, जिसमें मेड-इन-इंडिया टीकों की आपूर्ति भी शामिल है।’’

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 टीकाकरण का आंकड़ा 122 करोड़ से अधिक हुआ : सरकार

इसमें कहा गया है, ‘‘हमने बोत्सवाना को कोवैक्सीन की आपूर्ति को भी मंजूरी दे दी है। किसी भी नई आवश्यकता को या तो द्विपक्षीय रूप से या कोवैक्स के माध्यम से पेश किया जाएगा, इस पर तेजी से विचार किया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...