Zakir Naik In FIFA World Cup: भारत ने कतर के समक्ष उठाया जाकिर नाइक का मुद्दा, मिला यह जवाब

Arindam Bagchi
ANI
अंकित सिंह । Nov 24, 2022 6:28PM
अरिंदम बागची ने आगे कहा कि कतर ने भारत को बताया है कि जाकिर नाइक को फीफा विश्व कप 2022 में भाग लेने के लिए कोई निमंत्रण नहीं दिया गया था। इससे पहले केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि भारत इस मामले पर संबंधित अधिकारियों के सामने “कड़े शब्दों” में अपने विचार प्रकट करेगा।

कतर में फीफा विश्व कप चल रहा है। इसका आगाज 20 नवंबर को हुआ था। आगाज के साथ ही भारत में एक विवाद भी शुरू हो गया। दरअसल, इस्लामिक धर्मगुरु जाकिर नाइक भी कतर पहुंचा था। रिपोर्ट में दावा किया गया कि कतर ने ही फीफा विश्वकप के दौरान मजहबी तकरीरे करने के लिए जाकिर नाइक को बुलाया था। जाकिर नाइक पर फिलहाल मनी लांड्रिंग, भड़काऊ भाषण और आतंकी से जुड़ी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप है। इसी को लेकर भारत में राजनीति भी शुरू हो गई। अब भारत ने यह पूरा मामला कतर के समक्ष उठाया है। कतर में इसको लेकर सफाई दी है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि जाकिर नाइक के वांछित होने का मुद्दा कतर के साथ उठाया गया है। 

इसे भी पढ़ें: FIFA World Cup 2022: भारत ने आपत्ति जताई तो कतर ने दी सफाई, जाकिर नाइक को नहीं दिया गया कोई आधिकारिक आमंत्रण

अरिंदम बागची ने आगे कहा कि कतर ने भारत को बताया है कि जाकिर नाइक को फीफा विश्व कप 2022 में भाग लेने के लिए कोई निमंत्रण नहीं दिया गया था। इससे पहले केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि भारत इस मामले पर संबंधित अधिकारियों के सामने “कड़े शब्दों” में अपने विचार प्रकट करेगा। जब यह पूछा गया कि क्या भारत विरोध दर्ज कराएगा, तो उन्होंने कहा कि उन्हें विश्वास है कि भारत इस मामले पर विरोध दर्ज कराएगा। मामले से संबंधित सवाल का जवाब देते हुए पुरी ने कहा, “उसके (नाइक के) बारे में हमारे (भारत के) अपने विचार हैं और मुझे विश्वास है कि संबंधित अधिकारियों के सामने कड़ा विरोध दर्ज कराया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: हेट स्पीच का नाइक कैसे बना फीफा वर्ल्ड कप में नायक, क्या है मिशन दावाह, जानें विवादित इस्लामिक धर्मगुरु की कहानी, जो भारत समेत 5 देशों में बैन

MEA के प्रवक्ता ने आगे बताया कि PM मोदी G20 बाली शिखर सम्मेलन में विभिन्न अवसरों पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से मिले। इस सम्मेलन में एक संक्षिप्त द्विपक्षीय और एक त्रिपक्षीय बैठक थी। सभी से अपील है कि PM मोदी-राष्ट्रपति बाइडेन की मुलाकात पर गलत सोशल मीडिया पोस्ट को महत्व न दें। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने यह भी कहा कि उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ की कतर यात्रा छोटी थी। अगस्त से दोहा में कैद 8 नौसैनिक अधिकारियों के मामले को आगे बढ़ाया गया है लेकिन इसे उपराष्ट्रपति द्वारा हालिया यात्रा के दौरान नहीं किया गया। 

अन्य न्यूज़