भारत के किसान तैयार करेंगे देश की ऊर्जा: नितिन गडकरी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2018   20:23
भारत के किसान तैयार करेंगे देश की ऊर्जा: नितिन गडकरी

गडकरी ने यह बात सिवनी जिले के बरघाट विधानसभा क्षेत्र में बुधवार को बरघाट के मिनी स्टेडियम ग्राउंड में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कही।

सिवनी (मप्र)। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को कहा कि नई तकनीक का उपयोग कर जल्द ही भारत के किसान देश की ऊर्जा तैयार करेंगे। धान की फसल कटने के बाद जो तनस (पराली) बचती है, उससे सीएनजी तैयार की जायेगी और इससे न केवल किसानों के ट्रैक्टर चलेंगे, बल्कि अन्य वाहन भी दौड़ेंगे। 

गडकरी ने यह बात सिवनी जिले के बरघाट विधानसभा क्षेत्र में बुधवार को बरघाट के मिनी स्टेडियम ग्राउंड में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा, ‘‘बरघाट क्षेत्र धान का कटोरा है। यहां सबसे बढ़िया चावल तैयार होता है। किसान कटाई के बाद जिस तनस (पराली) को जला देते हैं, अब उससे सीएनजी तैयार की जाएगी। हमने इसका प्रोजेक्ट डाला है। हम पराली से तैयार सीएनजी से ट्रैक्टर चलाकर दिखा देंगे। क्षेत्र के किसानों को धान के साथ-साथ अब पराली से भी आमदनी होगी।’’

‘परिवारवाद’ को लेकर कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा कि ‘परिवारवाद’ कांग्रेस पार्टी में हावी है जबकि भाजपा इसके विपरीत योग्य और काबिल को मौका देती है। स्वयं का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि वह नागपुर में पोस्टर चिपकाने और दीवारों पर लिखने का छोटा सा काम करते थे और भाजपा ने उन्हें मौका दिया। पहले जिस कुर्सी पर अटल जी, आडवानी जी बैठते थे, उस कुर्सी पर उन्हें बैठने का सौभाग्य मिला। भाजपा पार्टी परिवारवाद के खिलाफ है। 

किसानों की खराब स्थिति के लिये गडकरी ने कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि 1947 के बाद कांग्रेस की नीति के कारण किसानों की हालत बिगड़ गई। कपास सस्ता है लेकिन उससे बनने वाला कपड़ा मंहगा है। संतरा सस्ता है लेकिन जूस मंहगा है। अर्जेन्टीना में भाव खुलने पर हमारे यहां सोयाबीन के भाव तय होते हैं। अमेरिका से मक्का और दुनिया में कपास के भाव खुलने पर भारत देश में इनके भाव तय होते हैं। किसानों को उन्नति और विकास की ओर अग्रसर करने के लिए हमारी सरकार लगातार प्रयास कर रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में लोगों को बिजली तक नसीब नहीं होती थी। आज मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री चौहान की नीतियों और विकास के कामों के कारण चौबीस घंटे बिजली मिल रही है। किसानों को फसलों के वाजिब दाम मिल रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...