राफेल के बाद अब भारत सरकार अमेरिका से खरीदेगी 60 रोमियो हेलीकॉप्टर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 17, 2018   15:43
राफेल के बाद अब भारत सरकार अमेरिका से खरीदेगी 60 रोमियो हेलीकॉप्टर

भारत अपनी नौसेना को मजबूत बनाने के लिए अमेरिका से 24 बहु-भूमिका वाले एमएच-60 ‘रोमियो'' पनडुब्बी-रोधी हेलीकॉप्टर खरीदना चाहता है। यह सौदा करीब 2 अरब डॉलर में होने का अनुमान है।

वॉशिंगटन। भारत अपनी नौसेना को मजबूत बनाने के लिए अमेरिका से 24 बहु-भूमिका वाले एमएच-60 ‘रोमियो' पनडुब्बी-रोधी हेलीकॉप्टर खरीदना चाहता है। यह सौदा करीब 2 अरब डॉलर में होने का अनुमान है। रक्षा उद्योग से जुड़े सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। भारत को एक दशक से अधिक समय से इस तरह के हंटर हेलीकॉप्टर की जरुरत है। 

सूत्रों ने पीटीआई- बताया कि अमेरिका के उप- राष्ट्रपति माइक पेंस और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच सिंगापुर में हुयी बैठक के बाद हेलीकॉप्टर सौदे को कुछ महीनों में अंतिम रूप दिये जाने की उम्मीद है। सिंगापुर में एक क्षेत्रीय शिखर बैठक से इतर पेंस और मोदी के बीच यह बैठक हुई। बैठक में द्विपक्षीय रक्षा संबंधों का मुद्दा शीर्ष पर रहा। सूत्रों ने कहा कि भारत ने 24 बहु-भूमिका हेलीकॉप्टर-एमएच 60 रोमियो सीहॉक की "तत्काल आवश्यकता" को ध्यान में रखते हुये अमेरिका को अनुरोध-पत्र भेजा है।

हाल के महीनों में, भारत और अमेरिका के बीच रक्षा समझौतों में तेजी आयी है। अमेरिकी सरकार के भारत की रक्षा आवश्यकताओं के मद्देनजर अपने उच्च तकनीक सैन्य उपकरणों के दरवाजे खोल दिये हैं। सूत्रों के मुताबिक, एमएच-60 रोमियो सौदा ऑफसेट आधार पर होने की संभावना है। भारत की योजना अपनी दीर्घकालिक योजना के तहत यहीं (भारत) पर 123 हेलीकॉप्टरों के विनिर्माण की है। उद्योग सूत्रों ने कहा कि इस सौदे के साथ भारत और अमेरिका के बीच रक्षा व्यापार बढ़कर 20 अरब डॉलर से ऊपर चला जायेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...