दुश्मनों के दांत खट्टे करने को आ गया 'राफेल', राजनाथ सिंह ने कहा- बर्ड्स सुरक्षित उतर गए हैं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 29, 2020   14:57
दुश्मनों के दांत खट्टे करने को आ गया 'राफेल', राजनाथ सिंह ने कहा- बर्ड्स सुरक्षित उतर गए हैं

राफेल विमान लगभग 7,000 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद बुधवार दोपहर अंबाला पहुंच रहे हैं। इस दौरान विमान केवल एक जगह संयुक्त अरब अमीरात में रुका था।

अंबाला। हिन्दुस्तान के हौसलों को बढ़ाने और दुश्मनों के दांत खट्टे करने के लिए राफेल विमान का पहला बेड़ा अंबाला एयरबेस पहुंच चुका है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर सुरक्षित लैंडिंग की जानकारी दी है। पांच लड़ाकू विमानों का यह बेड़ा हरियाणा के अंबाला एयरबेस में तैनात रहेगा। लड़ाकू विमानों के इस बेड़े ने सोमवार को फ्रांसीसी बंदरगाह शहर बोरदु के मेरिग्नैक एयरबेस से उड़ान भरी थी। ये विमान लगभग 7,000 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद बुधवार दोपहर अंबाला पहुंचे हैं। इस दौरान विमान केवल एक जगह संयुक्त अरब अमीरात में रुका था।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया है, ‘‘बर्ड्स सुरक्षित उतर गए हैं।’’ वायुसेना में लड़ाकू विमानों को ‘बर्ड’ (चिड़िया) कहा जाता है। सिंह ने ट्वीट किया है, ‘‘राफेल लड़ाकू विमानों का भारत पहुंचना हमारे सैन्य इतिहास के नये अध्याय की शुरुआत है। ये बहुद्देशीय विमान भारतीय वायुसेना की क्षमता में अभूतपूर्व वृद्धि करेंगे।’’ राजग सरकार ने 23 सितंबर, 2016 को फ्रांस की एरोस्पेस कंपनी दसाल्ट एविएशन के साथ 36 लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59,000 करोड़ रुपये का सौदा किया था।

 

गौरतलब है कि इससे पहले तत्कालीन संप्रग सरकार करीब सात साल तक भारतीय वायुसेना के लिए 126 मध्य बहुद्देशीय लड़ाकू विमानों के खरीद की कोशिश करती रही थी, लेकिन वह सौदा सफल नहीं हो पाया था। 

  

इसे भी पढ़ें: राफेल को भारत लाने में कश्मीर के इस जाबांज ने निभाई अहम भूमिका, पूरा देश कर रहा गर्व

अधिकारियों ने बताया कि इन विमानों में एक सीट वाले तीन और दो सीट वाले दो विमान मौजूद हैं। बता दें कि अधिकारियों ने अंबाला सैन्य अड्डे के आसपास निषेधाज्ञा जारी कर तस्वीरें लेने और वीडियो बनाने पर रोक लगा दी है। हालांकि मीडियाकर्मियों को अब राफेल लड़ाकू विमान की फोटोग्राफी करने की अनुमति मिल गई है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।