भारतीय वायुसेना का मिग-21 बाइसन विमान बाड़मेर में क्रैश, कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का आदेश दिया गया

MiG 21 Bison
अभिनय आकाश । Aug 25, 2021 7:12PM
पश्चिमी सेक्टर में प्रशिक्षण के लिए उड़ान भरने वाले मिग-21 बाइसन विमान में टेकऑफ़ के बाद 'तकनीकी खराबी' आ गई। पायलट के सुरक्षित बाहर निकलने की पुष्टि करते हुए, भारतीय वायुसेना ने कहा कि दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का आदेश दिया गया है।

भारतीय वायु सेना (IAF) का मिग-21 बाइसन लड़ाकू विमान बुधवार को एक प्रशिक्षण उड़ान के दौरान राजस्थान के बाड़मेर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया। शुरुआती इनपुट से इस बात की पुष्टि हुई कि पायलट सुरक्षित है। भारतीय वायु सेना ने एक ट्वीट में कहा कि आज शाम करीब साढ़े पांच बजे पश्चिमी सेक्टर में प्रशिक्षण के लिए उड़ान भरने वाले मिग-21 बाइसन विमान में टेकऑफ़ के बाद "तकनीकी खराबी" आ गई। पायलट के सुरक्षित बाहर निकलने की पुष्टि करते हुए, भारतीय वायुसेना ने कहा कि दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का आदेश दिया गया है।

इसे भी पढ़ें: भारत को अफगानिस्तान में सैन्य भागीदारी नहीं निभानी चाहिए: अरूप राहा

इसी साल मई में एक और मिग-21 बाइसन लड़ाकू विमान पंजाब के मोगा जिले के लंगेना नवान गांव में एक खुले मैदान में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें उसके पायलट स्क्वाड्रन लीडर और उत्तर प्रदेश के मेरठ निवासी अभिनव चौधरी की मौत हो गई थी। जेट ने रात के प्रशिक्षण अभ्यास के लिए राजस्थान के सूरतगढ़ से लुधियाना के जगराओं के लिए उड़ान भरी थी। अधिकारियों ने कहा कि विमान मोगा में दुर्घटनाग्रस्त हो गया जब पायलट सूरतगढ़ लौट रहा था।

इसे भी पढ़ें: अफगानिस्तान से लोगों को लाने में तेजी, दो अफगान सांसदों समेत 392 लोगों को भारत लाया गया

इस साल मार्च में एक दुर्घटना के दौरान मिग -21 बाइसन फाइटर जेट उड़ाने वाले भारतीय वायु सेना के दूसरे पायलट की मौत हो गई थी। दुर्घटना उस समय हुई जब विमान मध्य प्रदेश के ग्वालियर में एक एयरबेस पर एक लड़ाकू प्रशिक्षण मिशन के लिए उड़ान भर रहा था। इसी साल जनवरी में एक और मिग-21 बाइसन विमान राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के सूरतगढ़ एयरबेस पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। विमान का पायलट सुरक्षित बाहर निकलने में कामयाब हो गया था।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़