साढ़े छह साल बाद जेल से बाहर आईं इंद्राणी मुखर्जी, कहा- खुला आसमान दिखा, खुश हूं

Indrani
ANI
अभिनय आकाश । May 20, 2022 7:42PM
इंद्राणी मुखर्जी ने जेल परिसर के बाहर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि खुला आसमान दिखा, मैं बहुत खुश हूं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अभी घर जा रही हूं।

अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या की आरोपी इंद्राणी मुखर्जी छह साल से अधिक समय के बाद बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने के बाद भायखला जेल से बाहर आ गईं। जेल से बाहर निकलते हुए इंद्राणी मुखर्जी ने कहा कि वह बेहतर महसूस कर रही थी और उसने अभी तक कोई योजना नहीं बनाई थी। जेल परिसर के बाहर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि खुला आसमान दिखा, मैं बहुत खुश हूं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अभी घर जा रही हूं। अभी आगे की कोई योजना नहीं है, सिर्फ घर जाना है। उन्होंने कहा कि मैंने जेल में बहुत कुछ सीखा है ... मैं अपने अगले साक्षात्कार में इसके बारे में बात करूंगी। 

इसे भी पढ़ें: Sheena Bora Murder Case | सुप्रीम कोर्ट ने शीना बोरा हत्याकांड में इंद्राणी मुखर्जी को जमानत दी

यह पूछे जाने पर कि क्या वह वर्षों तक जेल में रहने के लिए किसी को दोषी ठहराती हैं, उन्होंने इंडिया टुडे टीवी से बात करते हुए कहा कि उन्होंने सब भुला दिया है। मैंने उन सभी लोगों को माफ कर दिया है जिन्होंने मुझे चोट पहुंचाई है। शीना बोरा हत्याकांड मामले में इंद्राणी मुखर्जी को विशेष सीबीआई अदालत द्वारा 2 लाख रुपये के मुचलके पर ज़मानत दिए जाने के एक दिन बाद भायखला जेल से रिहा हुई।

इसे भी पढ़ें: ज्ञानवापी मस्जिद मामले में संगीत सोम का विवादित बयान- जो 92 में हुआ, वह 22 में होगा

बता दें कि मुखर्जी को हत्या को मामले में साढ़े छह साल पहले गिरफ्तार किया गया था। वो अगस्त 2015 में गिरफ्तारी के बाद से मुंबई के भायखला महिला कारागार में बंद हैं। सीबीआई अदालत ने कहा कि पूर्व मीडिया कार्यकारी मुखर्जी को दो लाख रुपए का नकद मुचलका और समान राशि जमा करने में सक्षम जमानतदार मुहैया कराने पर रिहा किया जा सकता है। इस मामले की सुनवाई कर रही विशेष अदालत ने मुखर्जी को जमानत पर रिहाई के दौरान सबूतों से छेड़छाड़ नहीं करने की हिदायत भी दी। उसने मुखर्जी को जमानतदार मुहैया काने के लिए दो सप्ताह का समय दिया और जमानत की शर्तों का ‘‘ईमानदारी से पालन’’ करने का निर्देश दिया। मुंबई पुलिस ने मुखर्जी को अप्रैल 2012 में शीना बोरा की हत्या करने के आरोपों में 2015 मेंगिरफ्तार किया था। शीना इंद्राणी मुखर्जी की बेटी थी। मुखर्जी की गिरफ्तारी के बाद मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई थी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़