INX media case: प्रवर्तन निदेशालय ने कार्ती चिदंबरम से फिर की पूछताछ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2020   19:42
INX media case: प्रवर्तन निदेशालय ने कार्ती चिदंबरम से फिर की पूछताछ

ईडी ने आईएनएक्स मीडिया मामले में 2018 में कार्ती की 54 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की थी। उनकी ये संपत्ति भारत, ब्रिटेन और स्पेन में स्थित है। इससे पहले, एजेंसी सूत्रों ने आरोप लगाया था कि पी. चिदंबरम और कार्ती कई मुखौटा कंपनियों से लाभ हासिल करने वाले मालिक हैं।

नयी दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ती चिदंबरम सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष पेश हुए। वह आईएनएक्स मीडिया मनी लांड्रिंग मामले में पूछताछ के लिये पेश हुए। मामले के जांच अधिकारी ने तमिलनाडु के शिवगंगा से कांग्रेस सांसद कार्ती के मनी लांड्रिंग निरोधक कानून (पीएमएलए) के तहत बयान रिकार्ड किये।  इससे पहले, उनसे पिछले साल अक्टूबर में पूछताछ की गयी थी।

इसे भी पढ़ें: न्यायालय ने कार्ति चिदंबरम को जमा कराये गये 20 करोड़ रूपए वापस लेने की अनुमति दी

जांच एजेंसी ने सांसद से इससे पहले भी मामले में कई बार पूछताछ की है।इसी मामले में उनके पिता और कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम से भी पूछताछ की गयी। सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पिछले साल पी. चिदंबरम को गिरफ्तार किया था और उन्हें 100 दिन हिरासत में रहना पड़ा।उन्हें दिसंबर की शुरूआत में रिहा किया गया। केंद्रीय जांच ब्यूरो ने मामले में कार्ती को भी गिरफ्तार किया था। ऐसा समझा जाता है कि एजेंसी को कुछ नये सुराग मिले हैं और उसी सिलसिले में उनसे पूछताछ हुई। इसके अलावा मामले में अन्य गवाहों तथा आरोपियों के बयान से भी उनका सामना कराया गया।

इसे भी पढ़ें: चिदंबरम को लेकर SC ने आखिर हाई कोर्ट को क्यों लगाई फटकार?

उल्लेखनीय है कि ईडी ने आईएनएक्स मीडिया मामले में 2018 में कार्ती की 54 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की थी। उनकी ये संपत्ति भारत, ब्रिटेन और स्पेन में स्थित है। इससे पहले, एजेंसी सूत्रों ने आरोप लगाया था कि पी. चिदंबरम और कार्ती कई मुखौटा कंपनियों से लाभ हासिल करने वाले मालिक हैं। इन कंपनियों का गठन भारत और विदेश में किया गया। इन कंपनियां का विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड की आईएनएक्स मीडिया समूह को दी गयी मंजूरी से जुड़ाव सामने आया। ये मंजूरी उस समय दी गयी जब पिछली मनमोहन सरकार में चिदंबरम केंद्रीय वित्त मंत्री थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।