हिमाचल में रिवाज नहीं राज बदलने वाला है? कांग्रेस का आत्मविश्वास, EVM पर पहरा और लीक ऑडियो दे रहे संकेत, क्या हार रही है बीजेपी

Himachal
Creative Common
अभिनय आकाश । Nov 24, 2022 3:29PM
विधानसभा चुनाव के नतीजों की घोषणा के ठीक पहले पार्टी के अंदर चल रही गुटबाजी को उजागर करने वाले ऑडियो क्लिप आने शुरू हो गए हैं।

हिमाचल प्रदेश में 12 नवंबर को मतदान हुआ था, सभी को नतीजों का इंतजार है। कांग्रेस अपनी जीत को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त है तो वहीं बीजेपी राज्य में रिवाज बदलने का दंभ भर रही है। हिमाचल प्रदेश का चुनावी नतीजा क्या होगा, ये इस वक्त का बड़ा सवाल है। हर शख्स ये जानने के लिए बेताब है कि राज्य की सत्ता पर कांग्रेस वापसी कर रही है या बीजेपी एक बार फिर से हिमाचल का चुनावी दंगल अपने नाम करने जा रही है। विधानसभा चुनाव के नतीजों की घोषणा के ठीक पहले पार्टी के अंदर चल रही गुटबाजी को उजागर करने वाले ऑडियो क्लिप आने शुरू हो गए हैं। विधानसभा चुनावों के लिए टिकटों के आवंटन तक बीजेपी का "मिशन रिपीट" का अभियान जोरों पर चल रहा था, लेकिन उम्मीदवारों की घोषणा के बाद, पार्टी इसे कायम रखने विफल रही और अब ऑडियो क्लिप और एक पत्र के बाद इस बात पर सवाल उठने लगे हैं कि पार्टी में सब ठीक नहीं है क्या?

इसे भी पढ़ें: 'यूपी-उत्तराखंड की ही तरह हिमाचल और गुजरात में भी भाजपा फिर बनाएगी सरकार', अनुराग ठाकुर का दावा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने बीजेपी के उच्च पदस्थ सूत्रों के हवाले से एक रिपोर्ट प्रकाशित की है, जिसके अनुसार चुनावों में बागियों की उपस्थिति मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के विरोध में एक समूह की एक सुनियोजित चाल थी और निर्दलीय उम्मीदवारों के रूप में चुनाव लड़ने वाले अधिकांश बागी एक निश्चित समूह से जुड़े हुए हैं। आने वाले दिनों में कोई और गुट इस मुद्दे को पार्टी आलाकमान के सामने उठा सकता है। बागियों की मौजूदगी के अलावा अब पहले मंडी जिले के जोगिंदरनगर विधानसभा क्षेत्र और अब चंबा जिले के डलहौजी विधानसभा क्षेत्र में ऑडियो क्लिप सामने आने से उन नेताओं की भी पोल खुल गई है, जिन्होंने टिकट कटने के बाद भाजपा के खिलाफ काम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश को मछली उत्पादन के लिए पहाड़ी राज्यों की श्रेणी में प्रथम पुरस्कार

सूत्रों ने कहा कि कई सीटों पर नेताओं ने भाजपा में रहते हुए पार्टी और आधिकारिक उम्मीदवारों के खिलाफ काम किया है और अब ऐसे नेताओं की रिपोर्ट तैयार की जा रही है। यह सर्वविदित तथ्य है कि कांगड़ा जिले में सर्वाधिक सीटें जीतने वाली पार्टी हिमाचल प्रदेश में सरकार बनाती है और इस बार भाजपा के सामने गुटबाजी, बागियों की उपस्थिति और मंत्री की सीट बदलने के कारण कांगड़ा जिले में बहुमत सीटें जीतने की चुनौती है। . कांगड़ा विधानसभा सीट पर बीजेपी ने इस बार कांग्रेस के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष पवन काजल को मैदान में उतारा था, जो चुनाव से ठीक पहले पार्टी में शामिल हुए थे. भाजपा नेताओं का एक वर्ग उनके शामिल होने से खुश नहीं था। 2017 के विधानसभा चुनाव में पवन काजल ने कांग्रेस के टिकट पर कांगड़ा सीट से 6208 मतों के अंतर से जीत दर्ज की थी।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल चुनाव में 42 सीटों पर पुरुषों से ज्यादा महिलाओं ने मतदान किया

इस बार मतदान के बाद अब काजल ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर जिले के वरिष्ठ पार्टी नेताओं की पार्टी विरोधी गतिविधियों की शिकायत की है. काजल ने अपनी शिकायत में कहा है कि जिले के एक वरिष्ठ नेता ने हितों के खिलाफ काम किया. नगरोटा बगवां और ज्वालामुखी सहित कई विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी की। बीजेपी को एक दर्जन से ज्यादा सीटों पर बगावत का सामना करना पड़ा है और इनमें पार्टी के लिए सबसे बड़ी चुनौती कांगड़ा जिले में ही है क्योंकि यहां पांच सीटों पर पार्टी के कद्दावर नेता बगावत कर मैदान में उतरे हैं। अब इससे पार्टी के लिए समीकरण और भी खराब होने के आसार हैं। ऑडियो क्लिप सामने आना और शिकायतें इस बात का संकेत दे रही हैं कि नतीजों की घोषणा के बाद भाजपा के भीतर गुटबाजी तेज हो जाएगी और विरोधी गुट एक-दूसरे पर पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाएंगे। 

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी हुई तेज, ऊंचाई वाले इलाकों में जनजीवन प्रभावित, 100 से ज्यादा सड़कें बंद

जिसको लेकर कांग्रेस ने अपने सभी उम्मीदवारों को अभी से अलर्ट कर दिया है।  कांग्रेस को पूरा भरोसा है कि राज्य की जनता ने उसके हक में वोटिंग की है। कहा तो ये भी जा रहा है कि कांग्रेस खेमे में सीएम फेस को लेकर भी मंथन शुरू हो गया है। एक वरिष्ठ नेता ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि उन्हें भरोसा है कि कांग्रेस हिमाचल में 42 से 46 सीटें जीत रही है और कुछ निर्दलीय विधायक भी संपर्क में हैं। कांग्रेस पार्टी ईवीएम की सुरक्षा को लेकर बार-बार सवाल खड़े करते नजर आ रही है। कुछ इलाकों में कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता स्ट्रांग रूम के बाहर तंबू लगाकर भी बैठे हैं।

अन्य न्यूज़