संविधान की परिपाटी को रौंदना आए दिन की बात हो गई है: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2018   20:49
संविधान की परिपाटी को रौंदना आए दिन की बात हो गई है: कांग्रेस

गौरतलब है कि मलिक ने कहा है कि अगर मैंने दिल्ली की तरफ देखा होता तो मुझे सज्जाद लोन को मुख्यमंत्री बनाना पड़ता और इसके लिए मैं इतिहास में एक ‘बेईमान आदमी’ के रूप में याद किया जाता।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के एक बयान को लेकर मंगलवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला और दावा किया कि संवैधानिक परिपाटी को रौंदना इस सरकार में आए दिन की बात हो गई है जिसके लिए जनता माफ नहीं करेगी। पार्टी ने मलिक पर भी निशाना साधा और आरोप लगाया कि राज्यपाल के तौर पर उन्होंने जो भूमिका निभाई है, उससे जम्मू-कश्मीर में भारत के सामरिक हितों को दूरगामी क्षति हुई है।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक बयान में कहा, ‘‘जम्मू कश्मीर के गवर्नर भी अब कह रहे हैं कि दिल्ली में बेईमान लोग राज कर रहे हैं। जनादेश को ताक पर रख अल्पमत की पिट्ठू सरकार बनाना व सविंधान की परिपाटी को पाँव तले रौंदना अब मोदी सरकार में आए दिन की बात हो गई है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मोदीजी, देश आपको माफ़ नहीं करेगा।’’कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने जिस तरह की भूमिका निभाई है, उससे भारत के सामरिक हितों को एक दूरगामी क्षति पहुँची है और इसके बहुत ही गम्भीर परिणाम होने वाले हैं। एक बात बिल्कुल साफ है कि जो भी गवर्नर मलिक साहब ने किया था वो दिल्ली के कहने पर, दिल्ली के इशारे पर किया था।’’

यह भी पढ़ें: बयान से पलटे J&K के राज्यपाल, पहले बोले थे- केंद्र चाहता है सज्जाद लोन बनें CM

गौरतलब है कि मलिक ने कहा है कि अगर मैंने दिल्ली की तरफ देखा होता तो मुझे सज्जाद लोन को मुख्यमंत्री बनाना पड़ता और इसके लिए मैं इतिहास में एक ‘बेईमान आदमी’ के रूप में याद किया जाता। पीडीपी ने नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस के समर्थन से एक सरकार गठन का दावा किया था जिसके बाद मलिक ने पिछले सप्ताह जम्मू कश्मीर विधानसभा को भंग कर दिया था। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।