भाजपा के साथ गठबंधन करना बड़ी भूल थी: ओमप्रकाश राजभर

Omprakash Rajbhar
ओमप्रकाश राजभर को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया लेकिन मतभेदों के चलते दोनों दलों का गठबंधन टूट गया। शुक्रवार को बलिया जिले के रसड़ा में पत्रकारों से बातचीत में राजभर ने कहा, भाजपा से गठबंधन करना उबड़ी भूल थी और अब इसका पछतावा हो रहा है।
बलिया (उप्र)। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी की तुलना ‘नाग’ से करते हुए कहा कि भाजपा के साथ गठबंधन करना उनकी बड़ी भूल थी। सुभासपा ने उत्‍तर प्रदेश में 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ा था और चार सीटों पर उसे जीत मिली थी। ओमप्रकाश राजभर को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया लेकिन मतभेदों के चलते दोनों दलों का गठबंधन टूट गया। शुक्रवार को बलिया जिले के रसड़ा में पत्रकारों से बातचीत में राजभर ने कहा, भाजपा से गठबंधन करना उबड़ी भूल थी और अब इसका पछतावा हो रहा है। 

इसे भी पढ़ें: योगी के मंत्री ने अब 'बुर्के' पर उठाया सवाल तो सपा नेता ने कहा- घूंघट पर भी लगाओ प्रतिबंध

उन्होंने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पर गठबंधन को लेकर दुष्प्रचार करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले आठ माह से उनकी अथवा भागीदारी संकल्‍प मोर्चा के किसी नेता की किसी सपा नेता से गठबंधन को लेकर कोई बातचीत नही हुई है। भागीदारी संकल्‍प मोर्चा में ओमप्रकाश राजभर और असदुद्दीन ओवैसी समेत कई प्रमुख नेता शामिल हैं। राजभर ने कहा कि भाजपा का हश्र ‘‘नाग देवता की तरह’’ ही होने वाला है। उन्होंने कहा कि जनता ने अच्छे दिन के मोह में चुनाव में भाजपा का सहयोग व समर्थन किया, लेकिन महंगाई व भ्रष्टाचार के जरिये भाजपा की केंद्र व राज्य सरकार ने आमजन को तबाह कर दिया है। 

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर के लिए बलिदान देने वाले कोठारी बंधुओं की कहानी, जिन्हें CM योगी ने नंदीग्राम में किया याद

उन्होंने कहा कि नाग पंचमी पर आम लोग सुबह नाग देवता की पूजा करते हैं और इसके बाद पूजा करने वाले लोग ही नाग के दिखाई देने पर लाठी लेकर नाग पर टूट पड़ते हैं। उसी तरह मंहगाई व गलत नीतियों से त्रस्त जनता भी अब भाजपा को खदेड़ने के लिए तैयार है। राजभर ने बताया कि एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी पांच अप्रैल को मैनपुरी में भागीदारी संकल्‍प मोर्चा की एक रैली को सम्बोधित करेंगे। उन्होंने कहा कि बलरामपुर के बाद मोर्चा की यह दूसरी रैली है और इसके बाद गोरखपुर व आजमगढ़ में रैलियां होंगी। उन्होंने बताया कि पंचायत चुनाव को लेकर ताकत दिखाने के लिए यह रैली हो रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़