अफगानिस्तान पर विशेष जी20 बैठक पर जोर दे रहा इटली, मारियो द्राघी ने पीएम मोदी से की चर्चा

G20 meeting
अभिनय आकाश । Aug 28, 2021 9:52PM
इटली इस साल G20 का अध्यक्ष है और अक्टूबर में नेताओं के शिखर सम्मेलन सहित इस साल समूह की सभी बैठकों की मेजबानी करेगा। इटली ने अफगानिस्तान के मुद्दे पर विशेष बैठक आयोजित करने का प्रस्ताव दिया है और इसके लिए अन्य जी-20 सदस्य देशों के साथ चर्चा की जा रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इटली के पीएम से फोन पर बात की है। पीएम मोदी ने इटली ने अपने समकक्ष मारियो द्राघी से G20 समूह द्वारा अफगानिस्तान पर एक विशेष नेता स्तर की बैठक की आवश्यकता पर चर्चा की। इटली इस साल G20 का अध्यक्ष है और अक्टूबर में नेताओं के शिखर सम्मेलन सहित इस साल समूह की सभी बैठकों की मेजबानी करेगा। इटली ने अफगानिस्तान के मुद्दे पर विशेष बैठक आयोजित करने का प्रस्ताव दिया है और इसके लिए अन्य जी-20 सदस्य देशों के साथ चर्चा की जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने किया जलियांवाला बाग के रिनोवेटेड परिसर का उद्घाटन, कहा- पवित्र मिट्टी को मेरा अनेक-अनेक प्रणाम

फंसे लोगों को सुरक्षित निकालना सुनिश्चित करने पर जोर

पीएमओ की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि कि दोनों नेताओं ने फोन पर हुई चर्चा के दौरान अफगानिस्तान की ताजा स्थिति और इससे विश्व और क्षेत्र पर पड़ने वाले प्रभावों को लेकर विमर्श किया। पीएमओ के मुताबिक दोनों नेताओं ने काबुल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर हुए घातक आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा की और वहां फंसे लोगों को सुरक्षित निकालना सुनिश्चित करने पर जोर दिया। ।’’ दोनों नेताओं ने जी-20 के एजेंडे से जुड़े अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर भी चर्चा की जिसमें जलवायु परिवर्तन भी शामिल था। । इस सिलसिले में दोनों नेताओं ने सीओपी-26 जैसे आगामी बहुपक्षीय सम्मेलनों के बारे में विचारों का आदान प्रदान किया। 

पुतिन और मर्केल से पीएम मोदी कर चुके हैं बात

15 अगस्त को तालिबान के काबुल पर कब्जे के बाद से प्रधानमंत्री विश्व के नेताओं से चर्चा कर रहे हैं। इससे पहले वह रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से बात कर चुके हैं। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता साकी ने अफगानिस्तान पर जी20 बैठक के सवाल पर कहा है कि विदेश विभाग आने वाले दिनों में अंतरराष्ट्रीय भागीदारों के साथ मिलकर इस पर चर्चा करेंगे।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़