• PM मोदी ने दिया 4T का मंत्र, कहा- तीसरी लहर को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाना बेहद जरूरी

अंकित सिंह Jul 16, 2021 12:19

मोदी ने कहा कि हम इस समय एक ऐसे मोड़ पर खड़े हैं जहां तीसरी लहर की आशंका लगातार जताई जा रही है। कुछ राज्यों में मामलों की बढ़ती हुई संख्या अभी भी चिंताजनक बनी हुई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, ओडिशा, महाराष्ट्र, केरल के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इन राज्यों में कोरोना वायरस की वर्तमान स्थिति पर चर्चा की। बैठक के बाद प्रधानमंत्री ने कहा कि ज्यादा नए मामले वाले राज्यों को कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को रोकने के लिए सक्रिय उपाय करने की आवश्यकता है। मोदी ने 4T पर जोर देते हुए कहा कि हमें 'टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट और टीकाकरण' पर ध्यान देने के साथ आगे बढ़ने की जरूरत है।

मोदी ने कहा कि हम इस समय एक ऐसे मोड़ पर खड़े हैं जहां तीसरी लहर की आशंका लगातार जताई जा रही है। कुछ राज्यों में मामलों की बढ़ती हुई संख्या अभी भी चिंताजनक बनी हुई है। उन्होंने कहा कि बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए हमें पहले से तैयारी करनी पड़ेगी। पिछले हफ़्ते के क़रीब 80% नए मामले आप जिन राज्यों (तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, ओडिशा, महाराष्ट्र, केरल) में हैं, उन्हीं राज्यों से आए हैं। महाराष्ट्र और केरल में मामलों में लगातार इज़ाफ़ा देखने को मिल रहा है। 

मोदी ने कहा कि एक्सपर्ट्स बताते हैं कि लंबे समय तक लगातार केसेस बढ़ने से कोरोना के वायरस में mutation की आशंका बढ़ जाती है, नए नए variants का खतरा बढ़ जाता है। बीते डेढ़ वर्ष में देश ने इतनी बड़ी महामारी से मुकाबला आपसी सहयोग और एकजुट प्रयासों से ही किया है। सभी राज्य सरकारों ने जिस तरह एक दूसरे से सीखने का प्रयास किया है, एक दूसरे का सहयोग करने की कोशिश की है।देश के सभी राज्यों को नए ICU बेड्स बनाने, टेस्टिंग क्षमता बढ़ाने और दूसरी सभी जरूरतों के लिए फंड उपलब्ध करवाया जा रहा है। केंद्र सरकार ने हाल ही में, 23,000 करोड़ रूपये से ज्यादा का इमरजेंसी कोविड रेस्पोंस पैकेज भी जारी किया है।  इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे।