कांग्रेस की नयी सेक्युलर सिंडिकेट हैं आईयूडीएफ, आईएसएफ और आईयूएमएल: नकवी

Naqvi
कांग्रेस असम, पश्चिम बंगाल और केरल में इन दलों के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ रही है। इन तीनों पार्टियों का मुख्य जनाधार मुस्लिम समाज के बीच माना जाता है।

गुवाहाटी। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि असम में ऑल युनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ), पश्चिम बंगाल में इंडियन सेक्युलर फ्रंट (आईएसएफ) और केरल में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) कांग्रेस ‘नया सेक्युलर सिंडिकेट’ हैं।उल्लेखनीय है कि कांग्रेस असम, पश्चिम बंगाल और केरल में इन दलों के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ रही है। इन तीनों पार्टियों का मुख्य जनाधार मुस्लिम समाज के बीच माना जाता है। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर से 370 के खात्मे के साथ समस्याओं के समाधान का रास्ता साफ हो गया: नकवी

असम विधानसभा चुनाव के लिए गुवाहाटी पहुंचे नकवी ने कहा, ‘‘यह नया सेक्युलर सिंडिकेट कांग्रेस के पाखंड की पराकाष्ठा है।’’उन्होंने कहा कि चार राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव ‘सांप्रदायिक वोटबैंक मालिकों’ और ‘समावेशी विकास करने वालों’ के बीच की लड़ाई है। नकवी ने यह उम्मीद जताई कि असम में एक बार फिर से भाजपा की सरकार बनेगी।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल की अगुवाई वाली भाजपा सरकार में असम ने विकास की नयी उंचाइयों को छुआ है तथा यह प्रधानमंत्री नरेंद्र के नेतृत्व में ‘तुष्टीकरण की राजनीति’ खत्म होने तथा ‘समावेशी विकास की प्रतिबद्धता’ के चलते भी संभव हुआ है।

इसे भी पढ़ें: देश में ‘कौशल की पहचान’ और ‘स्वदेशी की शान’ का मंच बन चुका है ‘हुनर हाट’ : नकवी

मोदी सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए नकवी ने कहा कि किसान सम्मान निधि योजना के तहत 10 करोड़ किसानों को मदद दी गई, गरीबों के दो करोड़ आवास दिए गए, उज्जवला योजना के तहत आठ करोड़ महिलाओं को मुफ्त गैस सिलेंडर प्रदान किया गया तथा मुद्रा योजना के तहत 28 करोड़ से अधिक लोगों को फायदा मिला। उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि असम में एआईयूडीएफ, पश्चिम बंगाल में आईएसएफ और केरल में आईयूएमएल मुख्य विपक्षी पार्टी का ‘नया सेक्युलर सिंडिकेट’ है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़