जादवपुर विश्वविद्यालय मामला: छात्र ने कहा, बाबुल सुप्रियो से नहीं मांगूंगा माफी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 23, 2019   20:11
जादवपुर विश्वविद्यालय मामला: छात्र ने कहा, बाबुल सुप्रियो से नहीं मांगूंगा माफी

यूडीएसएफ के एक प्रवक्ता ने कहा कि छात्र संगठन बल्लभ को हरसंभव कानूनी सहायता प्रदान करेगा। सुप्रियो के साथ उस दिन यादवपुर विश्वविद्यालय गयीं भाजपा नेता अग्निमित्रा पॉल ने बल्लभ के दावों को खारिज कर दिया।

कोलकाता। जादवपुर विश्वविद्यालय में वामपंथी छात्र संगठनों के विरोध प्रदर्शन के दौरान कथित तौर पर केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के बाल खींचने वाले छात्र ने सोमवार को कहा कि उसके माफी मांगने का कोई सवाल ही नहीं उठता क्योंकि उसने इरादतन कुछ नहीं किया। संस्कृत कॉलेज के छात्र और वामपंथी संगठन यूनाइटेड डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फ्रंट (यूडीएसएफ) के सदस्य देबांजन बल्लभ ने संवाददाताओं से कहा कि जब वह असम में एनआरसी की वजह से बेघर हुए लाखों लोगों की चिंताओं के बारे में बात करना चाहता था तो बाबुल सुप्रियो ने ही उन्हें धमकाना और गाली गलौच करना शुरू कर दिया। सुप्रियो ने छात्र की बीमार मां को आश्वासन दिया था कि उनके बेटे की हरकत के लिए उस पर कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी।

बल्लभ ने दावा किया, ‘‘मैंने आगे बढ़कर मंत्री से सवाल पूछा जो काले झंडे दिखाये जाने पर छात्रों से उलझ रहे थे। इस पर बाबुल सुप्रियो आक्रामक हो गये और उल्टा उन्होंने मुझसे पूछा लिया कि मुझे एनआरसी का फुल फॉर्म भी पता है। उन्होंने गलत तरीके से बोलना जारी रखा, मैंने विरोध किया और धक्कामुक्की के बीच उनके सुरक्षाकर्मियों ने मुझे धकेल दिया।’’ छात्र ने कहा कि धकेले जाने के दौरान उसका संतुलन खो गया और खुद को संभालने के दौरान मंत्री के बाल छू गये होंगे। उन्होंने कहा, ‘‘यह गैर इरादतन है। वायरल हुए वीडियो में मुझे केंद्रीय मंत्री के बाल खींचते हुए दिखाया गया है। इसमें भाजपा के आईटी प्रकोष्ठ ने छेड़छाड़ की है।’’ देबांजन ने कहा, ‘‘केंद्रीय मंत्री से माफी मांगने का सवाल ही नहीं उठता क्योंकि मैंने उस दिन कुछ गलत नहीं किया था।’’

इसे भी पढ़ें: यादवपुर विश्वविद्यालय जाने के अलावा नहीं बचा था कोई विकल्प: WB राज्यपाल

बृहस्पतिवार को यादवपुर विश्वविद्यालय में मौजूदगी के सवाल पर बल्लभ ने दावा किया कि वह यूडीएसएफ के एक कार्यक्रम में शामिल होने आया था और ‘‘शिक्षण संस्थानों में फासीवादी ताकतों के प्रवेश को रोकने’’ में एकजुटता दिखाने के लिए छात्रों के प्रदर्शन में शामिल हो गया। हालांकि देबांजन ने उसकी बीमार मां रूपाली बल्लभ के सुप्रियो से माफी मांगने के लिए कहे जाने पर कोई टिप्पणी नहीं की। यूडीएसएफ के एक प्रवक्ता ने कहा कि छात्र संगठन बल्लभ को हरसंभव कानूनी सहायता प्रदान करेगा। सुप्रियो के साथ उस दिन यादवपुर विश्वविद्यालय गयीं भाजपा नेता अग्निमित्रा पॉल ने बल्लभ के दावों को खारिज कर दिया। आंदोलन के समय मौजूद रहीं पॉल ने पीटीआई से कहा, ‘‘वीडियो में साफ है कि उन्होंने (बल्लभ ने) जानबूझकर बाबुलदा (सुप्रियो) के बाल खींचे और उन्हें धमकाते रहे। दुर्भाग्य की बात है कि एक बेटा माफी मांगने से इनकार करके मां की अवज्ञा कर रहा है जबकि खुद मां ने माफी मांग ली है और उसके करियर को लेकर चिंतित हैं।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।