जगद्गुरु की भविष्यवाणी, 2024 से पहले भारत का अभिन्न हिस्सा होगा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर

जगद्गुरु की भविष्यवाणी, 2024 से पहले भारत का अभिन्न हिस्सा होगा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर

भारत लगातार इस बात का दावा करता है कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर उसका है। अनुच्छेद 370 के हटने के बाद भारत के लोगों को इस बात की उम्मीद जगी है कि मोदी सरकार पीओके को भी हासिल करने के लिए प्रयास करेगी।

भारत के लिए जम्मू कश्मीर सदैव एक संवेदनशील मामला रहा है। नरेंद्र मोदी के सत्ता में आने के बाद से भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने लगातार जम्मू कश्मीर को लेकर कई बड़े फैसले लिए हैं जिसमें अनुच्छेद 370 के हटाने का भी फैसला शामिल है। तमाम विरोध के बावजूद नरेंद्र मोदी के सरकार ने जम्मू कश्मीर से 35 से और अनुच्छेद 370 को हटा दिया। इसके साथ ही भारत लगातार इस बात का दावा करता है कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर उसका है। अनुच्छेद 370 के हटने के बाद भारत के लोगों को इस बात की उम्मीद जगी है कि मोदी सरकार पीओके को भी हासिल करने के लिए प्रयास करेगी। 

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में बस खाई में गिरी, 23 लोगों की दर्दनाक मौत

इन सबके बीच प्रख्यात राम कथा वाचक और पद्म विभूषण समेत कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित श्रीतुलसी पीठाधीश्वर जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य महाराज ने पाक अधिकृत कश्मीर को लेकर बड़ी भविष्यवाणी की है। रामभद्राचार्य महाराज ने दावा किया कि 2024 से पहले पीओके भारत का अभिन्न हिस्सा हो जाएगा। जगद्गुरु ने कहा कि जब तक भारत पाक अधिकृत कश्मीर का अपना हिस्सा वापस पाकिस्तान से ले नहीं लेता तब तक वह विश्राम नहीं करेंगे। आपको बता दें कि इससे पहले जगद्गुरु ने राम मंदिर निर्माण को लेकर भी भविष्यवाणी की थी जो बिल्कुल सटीक साबित हुई थी। जगद्गुरु ने कहा था कि 6 दिसंबर 2020 से पहले अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर के निर्माण का भव्य शिलान्यास हो जाएगा जो कि सत्य साबित हुआ। 

इसे भी पढ़ें: NSA बैठक पर तालिबान के प्रवक्ता ने जारी किया बयान, कहा- भारत अहम देश, अच्छे संबंध चाहते हैं

इससे पहले भारतीय वायुसेना के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा था कि कश्मीर के, पाकिस्तान के कब्जे वाले हिस्से (पीओके) पर कब्जा करने की ‘‘फिलहाल’’ कोई योजना नहीं है, लेकिन उन्होंने उम्मीद जताई कि एक दिन भारत के पास ‘‘पूरा कश्मीर’’ होगा। पश्चिमी वायु कमान के एयर ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ (एओसी-इन-सी, एयर मार्शल अमित देव ने कहा कि पीओके में लोगों के साथ पाकिस्तानियों द्वारा उचित व्यवहार नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भारतीय वायुसेना और सेना द्वारा 27 अक्टूबर, 1947 को) की गई कार्रवाई के परिणामस्वरूप कश्मीर के इस हिस्से की स्वतंत्रता सुनिश्चित हुई। मुझे यकीन है कि किसी दिन कश्मीर का, पाकिस्तान के कब्जे वाला हिस्सा भी, कश्मीर के इस हिस्से में शामिल हो जाएगा और आने वाले वर्षों में हमारे पास पूरा कश्मीर होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।