एस. जयशंकर ने अफगानिस्तान के शांति वार्ताकार अब्दुल्ला अब्दुल्ला से वार्ता की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 23, 2021   17:44
एस. जयशंकर ने अफगानिस्तान के शांति वार्ताकार अब्दुल्ला अब्दुल्ला से वार्ता की

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की जल्द वापसी के मद्देनजर वहां बढ़ती हिंसा के बीच शुक्रवार को अफगानिस्तान के शांति वार्ताकार अब्दुल्ला अब्दुल्ला के साथ वहां की संपूर्ण स्थिति पर चर्चा की।

नयी दिल्ली। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की जल्द वापसी के मद्देनजर वहां बढ़ती हिंसा के बीच शुक्रवार को अफगानिस्तान के शांति वार्ताकार अब्दुल्ला अब्दुल्ला के साथ वहां की संपूर्ण स्थिति पर चर्चा की। हाई काउंसिल फॉर नेशनल रिकॉन्सीलेशन (एचसीएनआर) के अध्यक्ष अब्दुल्ला अफगानिस्तान में शांति एवं स्थिरता लाने के लिए सभी संबंधित पक्षों के साथ वार्ता में मुख्य भूमिका निभा रहे हैं। समझा जाता है कि प्रभावशाली अफगान नेता निजी दौरे पर भारत आए हैं।

इसे भी पढ़ें: केंद्र के रुख से बिहार को लगा झटका, नहीं होगी जाति आधारित जनगणना, राजनीति शुरू

जयशंकर ने ट्वीट किया, ‘‘एचसीएनआर के अध्यक्ष डॉ. अब्दुल्ला से मुलाकात हमेशा अच्छी रहती है। हमारे संबंधों के लिए उनकी भावनाएं एवं समर्थन की सराहना करता हूं। क्षेत्र पर उनकी नजरिए का काफी महत्व है।’’ अमेरिकी सैनिकों के एक मई से वापस जाने के बाद से अफगानिस्तान में आतंकवादी हमले लगातार बढ़ रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: ऋण घोटाला मामला: केरल विधानसभा में विपक्ष ने सरकार पर लगाए आरोप, बहिर्गमन किया

अमेरिका ने अपने अधिकतर सैनिक वापस बुला लिए हैं और 31 अगस्त तक उनकी वापसी पूरी हो जाएगी, जो करीब दो दशक तक देश में उनकी मौजूदगी का अंत होगा। अफगानिस्तान में पिछले कुछ हफ्ते से स्थिति खराब होने से भारत दूसरे देशों एवं अफगानिस्तान की सरकार के संपर्क में है। भारत वहां पर शांति एवं स्थिरता का पक्षधर है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।