शताब्दी के सबसे बड़े परोपकारी हैं जमशेदजी टाटा, 102 अरब डॉलर का किया दान

jamsetji tata
साल 1839 में गुजरात के नवसारी में जन्में जमशेदजी टाटा 'टाटा समूह' के संस्थापक थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन परोपकार के कामों में निकाल दिया।

बेंगलुरू। जमशेदजी टाटा पिछले 100 वर्षों में दुनिया के सबसे बड़े परोपकारी व्यक्ति रहे हैं, उन्होंने कुल 102 अरब डॉलर का दान किया है। हुरुन रिपोर्ट और एडेलगिव फाउंडेशन द्वारा तैयार की गई सूची में जमशेदजी टाटा को सबसे बड़ा परोपकारी माना गया है। उनके आगे तो बिल एवं मेलिंडा गेट्स भी नहीं आते हैं। 

इसे भी पढ़ें: टाटा स्टील बीएसएल की पहल, ओडिशा में 100 बेड वाला कोविड अस्पताल बनाया 

साल 1839 में गुजरात के नवसारी में जन्में जमशेदजी टाटा 'टाटा समूह' के संस्थापक थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन परोपकार के कामों में निकाल दिया। उन्होंने मुख्यरूप से शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में दान किया है। उनका साल 1904 में निधन हो गया था।

50 परोपकारियों की तैयार की गई सूची के मुताबिक जमशेदजी टाटा ने वर्तमान समय के हिसाब से करीब 102 अरब डॉलर का दान किया है। बिल एवं मेलिंडा गेट्स ने 74.6 अरब डॉलर, वॉरेन बफे 37.4 अरब डॉलर, जॉर्ज सोरोस 34.8 अरब डॉलर और जॉन डी रॉकफेलर 26.8 अरब डॉलर का दान किया है। 

इसे भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे ने टाटा कैंसर अस्पताल को म्हाडा इमारतों के 100 फ्लैट के आवंटन पर रोक लगाई 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हुरुन रिपोर्ट के अध्यक्ष और मुख्य शोधकर्ता रूपर्ट हुगवेरफ ने बताया कि, "भले ही अमेरिकी और यूरोपीय लोग पिछली शताब्दी में परोपकार की सोच के लिहाज से हावी रहे हों लेकिन भारत के टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा दुनिया के सबसे बड़े परोपकारी व्यक्ति हैं।"

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़