कुमारस्वामी ले सकते हैं प्रशांत किशोर की मदद, JDS को पुनर्जीवित करने के लिए तैयार होगा खाका

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2020   20:47
कुमारस्वामी ले सकते हैं प्रशांत किशोर की मदद, JDS को पुनर्जीवित करने के लिए तैयार होगा खाका

चुनाव में लगातार हार झेलने के बाद जनता दल (सेक्युलर) का नेतृत्व, चुनावी रणनीतिज्ञ प्रशांत किशोर के साथ बातचीत कर पार्टी को पुनर्जीवित करने की योजना बना रहा है। सूत्र ने कहा कि कुमारस्वामी इस पर विचार कर रहे हैं...। उनकी रणनीति बिहार और अन्य जगहों पर कारगर सिद्ध हुई थी तो हम उन्हें यहां भी आजमा सकते हैं।

बेंगलुरु। चुनाव में लगातार हार झेलने के बाद जनता दल (सेक्युलर) का नेतृत्व, चुनावी रणनीतिज्ञ प्रशांत किशोर के साथ बातचीत कर पार्टी को पुनर्जीवित करने की योजना बना रहा है। उच्च पदस्थ पार्टी सूत्रों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। जेडीएस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी जल्दी ही किशोर से बातचीत कर आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: प्रशांत किशोर को जदयू से निष्कासित कर पार्टी ने अच्छा काम किया: निखिल आनंद

पार्टी के एक उच्च पदस्थ नेता ने नाम न बताने की शर्त पर कहा,“कुमारस्वामी इस पर विचार कर रहे हैं...। उनकी रणनीति बिहार और अन्य जगहों पर कारगर सिद्ध हुई थी तो हम उन्हें यहां भी आजमा सकते हैं।” कुमारवामी के नजदीकी सूत्रों ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री ने अभी तक किशोर से कोई चर्चा नहीं की है लेकिन वे जल्दी ही मुलाकात करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जदयू से निष्कासित, भाजपा ने कहा- अच्छा हुआ

उन्होंने कहा, “पार्टी के निर्माण की रणनीति पर चर्चा करने के लिए यह (मुलाकात) होगी। किशोर ने भी कुमार अन्ना (कुमारस्वामी) से मिलने की इच्छा जताई है। वे जल्दी ही मिलेंगे।” विस्तृत जानकारी न देते हुए जेडीएस के राज्य अध्यक्ष एच के कुमारवामी ने केवल इतना ही कहा कि पार्टी हित में किसी की सहायता लेने में कोई हर्ज नहीं है।

इसे भी देखें: प्रशांत किशोर की JDU से विदाई, अजय आलोक ने कहा कोरोना वायरस चला गया





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...