झारखंड: कोरोना मरीजों के लिए राहत, 1824 नए ऑक्सीजन सुविधा वाले बेड राज्य में पहुंचे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2021   08:48
झारखंड: कोरोना मरीजों के लिए राहत, 1824 नए ऑक्सीजन सुविधा वाले बेड राज्य में पहुंचे

झारखंड में ऑक्सीजन की सुविधा वाले 1824 नये बेड तैयार कर लिये गये हैं जिन्हें मिलाकर अब राज्य में इस प्रकार के बिस्तरों की संख्या 5947हो गई है। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने यहां बताया कि मुख्यमंत्री की सतत निगरानी में कोविड मरीजों की चिकित्सा और उन्हें राहत पहुंचाने के लिए युद्धस्तर पर तैयारियां की जा रही है।

रांची। झारखंड में ऑक्सीजन की सुविधा वाले 1824 नये बेड तैयार कर लिये गये हैं जिन्हें मिलाकर अब राज्य में इस प्रकार के बिस्तरों की संख्या 5947 हो गई है। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने यहां बताया कि मुख्यमंत्री की सतत निगरानी में कोविड मरीजों की चिकित्सा और उन्हें राहत पहुंचाने के लिए युद्धस्तर पर तैयारियां की जा रही है। उन्होंने कहा कि हाल के कुछ दिनों में ऑक्सीजन की सुविधा वालेबेड की काफी जरूरत महसूस की जा रही थी जिसे देखते हुए मुख्यमंत्री ने यथाशीघ्र बेड के इंतजाम करने के निर्देश दिये जिसके बाद राज्य के सभी जिलों में कम से कम 50 ऐसे बिस्तरों की व्यवस्था की गई।

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रह्लाद पटेल ने मां के लिए ऑक्सीजन मांगने वाले व्यक्ति को दो थप्पड़ मारने की बात कही

उन्होंने बताया कि सिर्फ 15 दिनों में ही राज्य में 1824 नये बिस्तरों की व्यवस्था की गई है। राज्य में अब तक 7201 सामान्य बेड थे लेकिन कुछ दिनों के भीतर इनकी संख्या बढ़ाकर 12,012 कर ली गई है। इसी तरह ऑक्सीजन की सुविधा वाले बेड की संख्या सिर्फ 1459 थी लेकिन अब इनकी संख्या बढ़ाकर 5947 कर ली गई है। आईसीयू बेड की संख्या पहले 481 थी अब इनकी संख्या बढ़ाकर 3272 की गई है। इसी प्रकार राज्य में वेंटिलेटर की संख्या को 502 से बढ़ाकर 634 किया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।