झारखंड सरकार लॉकडाउन पर पूरी तरह केन्द्र सरकार के साथ: हेमंत सोरेन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 26, 2020   09:55
झारखंड सरकार लॉकडाउन पर पूरी तरह केन्द्र सरकार के साथ: हेमंत सोरेन

केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा दुकानों के खोले जाने संबंधी छूट के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस सिलसिले में सभी 24 जिलों के उपायुक्तों को लॉकडाउन के दौरान उनके यहां की स्थितियों का आकलन करके ही दुकानों को खोलने की अनुमति देने कोकहा गया है।

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शनिवार को स्पष्ट किया कि लॉकडाउन की अवधि के बारे में उनकी सरकार पूरी तरह केन्द्र सरकार के दिशा निर्देशों का पालन कर रही है। सोरेन ने मीडिया से बातचीत में कहा कि लॉकडाउन की अवधि के मामले में उनकी सरकार पूरी तरह केन्द्र सरकार के साथ रही है और आगे भी उसके दिशा निर्देशों का पालन किया जायेगा। उन्होंने राज्य के संसाधनों की बात करते हुए कहा कि राज्य नब्बे प्रतिशत अपने संसाधनों के लिए केन्द्र पर निर्भर करता है लिहाजा कोरोना वायरस के इस संकट में उसे केन्द्र सरकार के मदद की हर कदम पर आवश्यकता होगी।

केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा दुकानों के खोले जाने संबंधी छूट के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस सिलसिले में सभी 24 जिलों के उपायुक्तों को लॉकडाउन के दौरान उनके यहां की स्थितियों का आकलन करके ही दुकानों को खोलने की अनुमति देने कोकहा गया है। उन्होंने कहा कि फिलहाल राज्य में सिर्फ आवश्यक वस्तुओं की दूकानें खुल रही हैं। इस बीच राज्य के वित्त मंत्री और प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने स्वीकार किया है कि देश में लागू किये गये लॉकडाउन से कोरोना संक्रमण की स्थिति को नियंत्रित करने में भारी मदद मिली है। उन्होंने एक बयान में कहा कि आगे इस लॉकडाउन में कोई छूट देने से पूर्व स्थितियों का पूरी तरह आकलन किया जायेगा और दुकानें खोलने की अनुमति वहीं दी जायेगी जहां सामाजिक दूरी बरतने का अनुपालन उचित ढंग से किया जायेगा। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।