भाई और बहन की हत्या कर निकाली आंख, पड़ोसी से पुलिस कर रही पूछताछ

murder
झारखंड में दो बच्चों की हत्या कर आंख निकालने के मामले में पड़ोसी से पूछताछ की जा रही है। मृतकों के पिता प्रेम मरांडी ने बताया कि दोनों बच्चे कल शाम से ही लापता थे। उन्होंने उनके देर शाम तक घर न पहुंचने पर गांव में काफी खोजबीन की लेकिन वे नहीं मिले।

पाकुड़। झारखंड के पाकुड़ जिले में अमड़ापाड़ा थाना क्षेत्र के अंबाडीहा मांझी टोला गांव में दस वर्षीया बालिका एवं उसके आठ वर्षीय भाई की नृशंस हत्या और हत्या के बाद अमानवीय तरीके से आंख निकाल लेने के मामले में पुलिस शक के आधार पड़ोसी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। इससे पहले अमड़ापाड़ा थाना क्षेत्र के अंबाडीहा गांव के मांझी टोला के इन दोनों नाबालिगों की किसी अज्ञात व्यक्ति ने बीती रात नृशंस हत्या कर दी और लड़की की एक आंख और उसके आठ वर्षीय भाई की दोनों आंखें भी निकाल लीं। लड़की की उम्र 10 वर्ष तथा भाई की आठ वर्ष बतायी गयी है। मृतकों के पिता प्रेम मरांडी ने बताया कि दोनों बच्चे कल शाम से ही लापता थे। उन्होंने उनके देर शाम तक घर न पहुंचने पर गांव में काफी खोजबीन की लेकिन वे नहीं मिले।

इसे भी पढ़ें: बहन के प्रेमी का अपरहण कर भाई ने की हत्या, जंगल में फेंक दी लाश

शुक्रवार को गांव के बाहर खलिहान में दोनों की लाश पड़ी होने की जानकारी मिली। सूचना मिलते ही पुलिस छानबीन में जुट गई है। पुलिस ने बताया कि हत्यारे ने नृशंस तरीके से मृत बच्ची की एक आंख व बच्चे की दोनों आंखें निकाल ली हैं। बच्ची के शव को देखकर ऐसा लगता है कि हत्या से पहले उसके साथ बलात्कार भी किया गया है। प्रारंभिक जांच में पुलिस को पता चला कि पड़ोस में रहने वाले गोतिया से मृतकों के परिवार का पहले से विवाद चल रहा था। उसके यहां कल देर शाम बच्चों को बुलाकर ले जाया गया था। संदेह के आधार पर पुलिस पड़ोसी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। पुलिस हत्या के इस मामले में जादू टोना के कोण पर भी काम कर रही है। बच्चों के इस निर्मम हत्या से क्षेत्र में लोगों में व्यापक रोष है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़