झारखंड में नव वर्ष में लगातार दूसरे दिन संक्रमितों की संख्या एक हजार पार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 3, 2022   08:07
झारखंड में नव वर्ष में लगातार दूसरे दिन संक्रमितों की संख्या एक हजार पार

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए सोमवार को राज्य में उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की जायेगी जिसमें प्रतिबन्धों के संबन्ध में आवश्यक निर्णय लिये जायेंगे।

रांची| झारखंड में रविवार को कोविड-19 के 1057 मामले सामने आये। आधिकारिक प्रवक्ता ने आज देर रात्रि बताया कि राज्य में नव वर्ष के लगातार दूसरे दिन एक हजार से अधिक यानी 1057 कोविड संक्रमित मिले जिनमें अकेले राज्य की राजधानी रांची के ही 413 संक्रमित हैं।

जनवरी की पहली तारीख को कुल 1007 एवं 31 दिसंबर को रांची के 327 मामलों को मिलाकर कुल 753 कोरोना संक्रमित लोग मिले थे।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए सोमवार को राज्य में उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की जायेगी जिसमें प्रतिबन्धों के संबन्ध में आवश्यक निर्णय लिये जायेंगे।

झारखंड सरकार द्वारा आज रात्रि जारी कोविड संक्रमण के आंकड़ों में बताया गया है कि राज्य में कोविड संक्रमण की तीसरी लहर ने एकाएक जोर पकड़ लिया है और सिर्फ 24 चौबीस घंटों में ही राज्य में एक बार फिर कुल 1057 नये लोग कोरोना संक्रमित पाये गये जिनमें 413 लोगरांची में ही संक्रमित पाये गये। इससे पूर्व शनिवार को रांची में 495 लोग कोरोना से संक्रमित पाये गये थे।

सरकार के अनुसार इनके अलावा आज जमशेदपुर में 179, धनबाद में 110, बोकारो में 93, पश्चिमी सिंहभूम में 84 एवं कोडरमा में 42 लोग कोविड संक्रमण से पीड़ित पाये गये।

झारखंड में 22 दिसंबर को एक बार फिर कोरोना संक्रमण ने जोर पकड़ा जब यकायक 51 नये मामले सामने आये थे।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री द्वारा की गयी घोषणा के अनुसार राज्य में 15 से 18 वर्ष के बालकों का भी टीकाकरण के लिए पंजीकरण शनिवार से प्रारंभ हो गया और उन्हें कल से जनवरी से टीका लगाने की तैयारी कर ली गयी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।