जिंदल के खिलाफ कोयला घोटाला मामले में पांच को जमानत

एक स्थानीय विशेष अदालत ने कांग्रेस नेता और उद्योगपति नवीन जिंदल एवं अन्य के खिलाफ कोयला घोटाला के एक मामले में पांच आरोपियों को आज जमानत दे दी।

एक स्थानीय विशेष अदालत ने कांग्रेस नेता और उद्योगपति नवीन जिंदल एवं अन्य के खिलाफ कोयला घोटाला के एक मामले में पांच आरोपियों को आज जमानत दे दी। सीबीआई ने इन पांचों को पूरक आरोप पत्र में नामजद किया है। विशेष सीबीआई न्यायाधीश भरत पराशर ने आज आरोपियों- जिंदल स्टील के सलाहकार आनंद गोयल, गुड़गांव स्थित ग्रीन इंफ्रा के उपाध्यक्ष सिद्धार्थ माद्रा, निहार स्टॉक्स लिमिटेड के निदेशक बीएसएन सूर्यनारायण, मुम्बई स्थित के ई इंटरनेशनल के मुख्य वित्तीय अधिकारी राजीव अग्रवाल और मुम्बई के एस्सार पावर लिमिटेड के कार्यकारी उपाध्यक्ष सुशील कुमार मारू को यह राहत प्रदान की।

यह मामला झारखंड के अमरकोंडा मुर्गादंग कोयला ब्लॉक के आवंटन से जुड़ा है। इन पांचों व्यक्तियों के नामों का खुलासा चार्टर्ड एकाउंटेंड सिंघल ने किया। सीबीआई ने इस मामले में सिंघल के खिलाफ पहले आरोपपत्र दायर किया था। अदालत ने 24 मार्च को सीबीआई के पूरक आरोपपत्र का संज्ञान लेने के बाद इन पांचों को बतौर आरोपी सम्मन जारी किया था। इस मामले में जिंदल के अलावा पूर्व कोयला राज्य मंत्री दसारि नारायण राव और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा भी शामिल हैं। अदालत ने इससे पहले सीबीआई को शीघ्र ही आगे की अपनी जांच रिपोर्ट जमा करने को कहा था। सीबीआई ने आरोप लगाया था कि कोडा ने झारखंड में अमरकोंडा के मुर्गादंगल में कोयला ब्लॉक के आवंटन में जिंदल ग्रुप की कंपनियों- जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड (जेएसपीएल) और गगन स्पोंज आयरन प्राइवेट लिमिटेड (जीएसआईपीएल) का पक्ष लिया था। वैसे सभी आरोपियों ने उनके विरूद्ध लगे आरोपों से इनकार किया है और कहा कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि कोयला ब्लॉक आवंटन प्रक्रिया के दौरान कोई साजिश हुई।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़