RTI में हुआ खुलासा, JNU के पास 82 विदेशी छात्रों की राष्ट्रीयता की जानकारी नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2020   20:16
RTI में हुआ खुलासा, JNU के पास 82 विदेशी छात्रों की राष्ट्रीयता की जानकारी नहीं

आरटीआई जवाब के अनुसार जेएनयू प्रशासन ने कहा कि विश्वविद्यालय के कुल 8,805 छात्रों में से 48 प्रतिशत छात्र एमफिल या पीएचडी कोर्स कर रहे हैं। कोटा के कार्यकर्ता सुजीत स्वामी के आरटीआई आवेदन पर यह जानकारी मिली है।इसमें एक सितंबर, 2019 तक की जानकारी दी गयी है।

कोटा। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में पंजीकृत कुल 301 विदेशी छात्रों में से 82 की राष्ट्रीयता की जानकारी विश्वविद्यालय को नहीं है। यह जानकारी सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून के तहत एक आवेदन के जवाब में मिली है। आरटीआई जवाब के अनुसार जेएनयू प्रशासन ने कहा कि विश्वविद्यालय के कुल 8,805 छात्रों में से 48 प्रतिशत छात्र एमफिल या पीएचडी कोर्स कर रहे हैं। कोटा के कार्यकर्ता सुजीत स्वामी के आरटीआई आवेदन पर यह जानकारी मिली है।इसमें एक सितंबर, 2019 तक की जानकारी दी गयी है।

इसे भी पढ़ें: कोई भी स्पष्टीकरण मुझे संतुष्ट नहीं कर सकता: आरिफ मोहम्मद खान

जवाब के अनुसार, विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले कुल 301 विदेशी छात्रों में से 82 छात्रों की राष्ट्रीयता के बारे में उसे जानकारी नहीं है। ये छात्र विश्वविद्यालय में स्नातक, स्नातकोत्तर, एमफिल और पीएचडी के 41 पाठ्यक्रमों में पंजीकृत हैं। जेएनयू में 35 कोरियाई छात्र हैं जबकि नेपाल के 25, चीन के 24, अफगानिस्तान के 21, जापान के 16 और जर्मनी के 13 छात्र हैं। अमेरिका के 10 छात्र हैं जबकि सीरिया और बांग्लादेश से सात सात छात्र हैं। एक अन्य सवाल के जवाब में जेएनयू प्रशासन ने कहा कि 1,264 छात्र स्नातक पाठ्यक्रमों में पंजीकृत हैं और 4,251 छात्र एमफिल व पीएचडी के लिए नामांकित हैं जबकि 2,877 छात्र स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।