नड्डा का ममता पर हमला, कहा- ना मां की चिंता हुई, ना माटी और ना ही मानुष की रक्षा हुई

नड्डा का ममता पर हमला, कहा- ना मां की चिंता हुई, ना माटी और ना ही मानुष की रक्षा हुई

नड्डा ने कहा कि हमने सुना था कि ममता जी मां, माटी और मानुष की बात करती थी। लेकिन 10 साल में हमने देखा कि न मां की चिंता हुई, न माटी की रक्षा हुई और न ही मानुष की रक्षा हुई।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रचार अपने चरम पर है। आज भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने केतुग्राम में एक चुनावी सभा को संबोधित किया। इस दौरान जेपी नड्डा ने ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। नड्डा ने कहा कि हमने सुना था कि ममता जी मां, माटी और मानुष की बात करती थी। लेकिन 10 साल में हमने देखा कि न मां की चिंता हुई, न माटी की रक्षा हुई और न ही मानुष की रक्षा हुई।

नड्डा ने आगे कहा कि अभी कुछ दिन पहले ममता जी के एक नेता ने दलितों के लिए ऐसे अपशब्द कहे, जो हम बयान नहीं कर सकते। कहा कि इनको कितना भी दे दो ये बिक जाते हैं। लेकिन ममता जी ने आजतक इसकी भर्त्सना नहीं की। ममता जी सहित TMC के सभी नेता दलित विरोधी हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार किसानों के लिए पीएम किसान सम्मान निधि योजना का पैसा भेजने को तैयार, लेकिन वो आप तक पहुंचने नहीं दिया गया। क्या आप ऐसी सरकार चाहते हैं क्या?

इसे भी पढ़ें: चुनाव प्रचार पर 24 घंटे की रोक संबंधी EC के फैसले को लेकर मैं धरना नहीं दूंगा: दिलीप घोष

नड्डा ने आरोप लगाया कि बंगाल में समाज को बांटने का षड्यंत्र रचा जाता है, वो लोग कहते हैं कि एक समाज इकट्ठा हो जाओ, अलग हो जाओ। ये भाजपा की नरेन्द्र मोदी सरकार है जो सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास लेकर चलती है। उन्होंने कहा कि जब संविधान की रक्षा करने वाला ही, भक्षक बन जाए, जब संविधान की रक्षा करने वाला ही,  संविधान के खिलाफ बोले, जब संविधान की रक्षा करने वाला ही, पुलिस के खिलाफ बोले, हमने कभी ऐसा देखा नहीं था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।