कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की जोड़ी ने मप्र का सत्यानाश कर दिया: सिंधिया

Scindia
सिंधिया ने इंदौर शहर से करीब 50 किलोमीटर दूर चंद्रावतीगंज कस्बे में एक चुनावी सभा में कहा, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की गद्दारों की सरकार को जब हमने धूल चटा दी, तो अब वे (28 सीटों पर तीन नवंबर को होने वाले उपचुनावों में) जनता से वोट मांगने निकले हैं।
इंदौर। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर सीधा हमला बोलते हुए राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंगलवार को कहा कि 15 महीने की पिछली कांग्रेस सरकार के दौरान इस जोड़ी ने सूबे का सत्यानाश कर दिया। सिंधिया, राज्य में सात महीने पहले के उस सियासी तख्तापलट के प्रमुख सूत्रधार रहे थे जिसके तहत कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के एक साथ इस्तीफा देकर भाजपा के पाले में चले जाने से कमलनाथ सरकार का पतन हो गया था। इसके बाद शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई में भाजपा सत्ता में लौट आई थी। सिंधिया ने इंदौर शहर से करीब 50 किलोमीटर दूर चंद्रावतीगंज कस्बे में एक चुनावी सभा में कहा, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की गद्दारों की सरकार को जब हमने धूल चटा दी, तो अब वे (28 सीटों पर तीन नवंबर को होने वाले उपचुनावों में) जनता से वोट मांगने निकले हैं। उन्होंने कमलनाथ और दिग्विजय सिंह पर तीखा प्रहार जारी रखते हुए कहा, इस जोड़ी ने मध्य प्रदेश का सत्यानाश किया है जिन्होंने राज्य में तबादला उद्योग चलवाया है, अवैध रेत उत्खनन चलवाया है और शराब माफिया चलवाया है। राज्यसभा सदस्य ने पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए कहा, वे (कांग्रेस नेता) 15 महीने वल्लभ भवन (राजधानी भोपाल स्थित राज्य सचिवालय) में बैठकर केवल नोट कमाने में व्यस्त थे। सिंधिया ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तुलना भी की। उन्होंने कहा, मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री सूबे के साढ़े सात करोड़ लोगों का प्रतिनिधि होता है। लेकिन 15 महीने की पिछली कांग्रेस सरकार के दौरान जनता पर जब भी दु:ख की घड़ी आई, तो आम लोगों के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ का चेहरा तक नहीं दिखा। 

इसे भी पढ़ें: ज्योतिरादित्य सिंधिया MP में आने पर सचिन पायलट का किया स्वागत, जानें पूरा मामला

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, दूसरी ओर, शिवराज सिंह चौहान जैसे मुख्यमंत्री हैं जो छोटी-सी दुर्घटना होने पर भी जनता का दु:ख-दर्द बांटने के लिए उनके बीच पहुंच जाते हैं। सिंधिया, सांवेर क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार और राज्य के पूर्व जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। हालांकि, इस सभा में सिलावट मौजूद नहीं थे। इस बारे में पूछे जाने पर प्रदेश भाजपा प्रवक्ता उमेश शर्मा ने कहा कि एक दूरस्थ क्षेत्र में जन संपर्क के कारण सिलावट को देरी हो गई और वह सिंधिया की सभा में नहीं पहुंच सके। अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सांवेर सीट पर कांग्रेस ने पूर्व लोकसभा सदस्य प्रेमचंद गुड्डू को बतौर उम्मीदवार मैदान में उतारा है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़