पंजाब में किसानों ने किया कंगना का घेराव, माफी मांगने के बाद जाने दिया

पंजाब में किसानों ने किया कंगना का घेराव, माफी मांगने के बाद जाने दिया

पंजाब के रूपनगर जिले में कीरतपुर साहिब में अभिनेत्री कंगना रनौत की गाड़ी को लोगों द्वारा रोक दिया गया। प्रदर्शनकारियों ने केंद्र के विवादास्पद कृषि कानूनों के विरुद्ध किसानों के आंदोलन पर कंगना रनौत के बयान के लिए माफी मांगने की मांग की।

पंजाब के रूपनगर जिले में कीरतपुर साहिब में अभिनेत्री कंगना रनौत की गाड़ी को लोगों द्वारा रोक दिया गया। प्रदर्शनकारियों ने केंद्र के विवादास्पद कृषि कानूनों के विरुद्ध किसानों के आंदोलन पर कंगना रनौत के बयान के लिए माफी मांगने की मांग की। आपको बता दें कि केंद्र द्वारा कृषि कानूनों को इस हफ्ते निरस्त कर दिया गया था। 

शुक्रवार को, कंगना रनौत अपने सुरक्षा विवरण के साथ इलाके से गुजर रही थीं, जब प्रदर्शनकारियों ने झंडे लहराते और नारेबाजी करते हुए उनकी कार को रोका। अभिनेत्री ने घटना का एक वीडियो अपने इंस्टाग्राम पर शेयर करते हुए बताया कि मैंने जैसे ही पंजाब में प्रवेश किया, एक भीड़ ने मेरी कार पर हमला किया। वे मुझे गालियां दे रहे हैं और जान से मारने की धमकी दे रहे हैं और खुद को किसान बता रहे थे।

पुलिस ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि रूपनगर में जब कंगना रनौत की कार कीरतपुर साहिब के पास बुंगा साहिब गुरुद्वारे पर पहुंची तब कुछ महिलाएं और पुरुष एक किसान संगठन का झंडा लिए आए और उन्होंने उनके काफिले को आगे जाने से रोका। पुलिस ने आगे बताया कि किसान आंदोलन के विरोध में दिए गए बयान पर लोग अभिनेत्री से माफी की मांग कर रहे थे। कंगना रनौत की कार को आधे घंटे तक रोका गया। अभिनेत्री ने वहां कुछ महिलाओं से बात भी की और उनसे माफ़ी मांगी। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद, प्रदर्शनकारियों ने अभिनेत्री की कार को रूपनगर से आगे जाने दिया। आपको बता दें कि केंद्र के कृषि कानूनों के विरुद्ध किसानों के आंदोलन पर कंगना रनौत ने बयान दिए थे जिसके वजह से कई किसान संगठन उनके खिलाफ हो गए थे। हाल ही में उन्हें अपने बयानों की वजह से दिल्ली विधानसभा से सम्मन भी मिला।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।