कर्ण सिंह ने राज्यपाल से किया अनुरोध, हरि सिंह के जन्मदिवस को सार्वजनिक अवकाश करें घोषित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 20, 2019   16:28
कर्ण सिंह ने राज्यपाल से किया अनुरोध, हरि सिंह के जन्मदिवस को सार्वजनिक अवकाश करें घोषित

सिंह ने कहा, ‘‘हमें याद करना चाहिए कि महाराजा हरि सिंह के कारण ही जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा बना। उन्होंने ही 26 अक्टूबर, 1947 को विलय पत्र पर हस्ताक्षर किया।

नयी दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कर्ण सिंह ने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक से शुक्रवार को अनुरोध किया कि वह अगले हफ्ते आने वाले उनके पिता और राज्य के पूर्व शासक राजा हरि सिंह के जन्मदिवस को सार्वजनिक अवकाश घोषित करें। उन्होंने कहा कि उनके पिता की वजह से ही यह राज्य भारत का हिस्सा है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व सदर-ए-रियासत सिंह ने कहा कि हरि सिंह की जयंती को सार्वजनिक अवकाश घोषित करने की मांग वर्षों से हो रही है।

इसे भी पढ़ें: शाहनवाज हुसैन ने कहा- अनुच्छेद 35 ए इस्लाम के खिलाफ था

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘यहां तक कि कुछ साल पहले मेरे दोनों बेटों ने विधान परिषद में इस संबंध में प्रस्ताव भी पारित कराया था लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। उनका जन्मदिन सोमवार, 23 सितंबर को है।’’ सिंह ने कहा, ‘‘हमें याद करना चाहिए कि महाराजा हरि सिंह के कारण ही जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा बना। उन्होंने ही 26 अक्टूबर, 1947 को विलय पत्र पर हस्ताक्षर किया। इसके अलावा वह प्रगतिशील और दूरदृष्टि रखने वाले शासक थे जिन्होंने जनता की भलाई के लिए कई सामाजिक और आर्थिक सुधार किए।’’

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में लोगों की HC से संपर्क करने में असमर्थता संबंधी दावा गलत: SC

उन्होंने कहा, यहां तक कि उनके पिता ने 1929 में ही राज्य के सभी मंदिरों के दरवाजे दलितों के लिए खोल दिए थे। सिंह ने कहा, ‘‘मैं राज्यपाल से अनुरोध करता हूं कि इस दिन को सार्वजनिक अवकाश घोषित करें।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।