कर्नाटक बम जांच: पुलिस को मिला संदिग्ध पाउडर वाला बॉक्स

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 26, 2020   17:46
कर्नाटक बम जांच: पुलिस को मिला संदिग्ध पाउडर वाला बॉक्स

संदिग्ध आरोपी आदित्य राव ने 22 जनवरी को पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया था और अदालत ने मामले की जांच के लिए गुरुवार को उसे 10 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया था। अन्य स्थानों के अलावा पुलिस दल शनिवार को राव को उडुपी स्थित बैंक ले गया। राव ने पुलिस को बताया कि यह पाउडर साइनाइड है।

मंगलुरु। कर्नाटक स्थित मंगलुरु हवाई अड्डे पर बम रखने के मामले में जांच के दौरान पुलिस ने आरोपी के बैंक लॉकर से एक बॉक्स बरामद किया है, जिसमें पाउडर जैसा कुछ है। उल्लेखनीय है कि हवाई अड्डे के निकास द्वार पर बने टिकट काउंटर के पास सोमवार को बैग में जिंदा बम मिला था जिसे बाद में नजदीक के मैदान में निष्क्रिय कर दिया गया। मामले में संदिग्ध आरोपी आदित्य राव ने 22 जनवरी को पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया था और अदालत ने मामले की जांच के लिए गुरुवार को उसे 10 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया था। अन्य स्थानों के अलावा पुलिस दल शनिवार को राव को उडुपी स्थित बैंक ले गया। राव ने पुलिस को बताया कि यह पाउडर साइनाइड है।

इसे भी पढ़ें: दिलों को जोड़ना भारत और कांग्रेस की संस्कृति, चुनौतियों का डटकर सामना करेंगे: कमलनाथ

एसीपी के. यू. बेलियप्पा के नेतृत्व वाले जांच दल ने बॉक्स को जांच के लिए फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला भेज दिया। आरोपी ने शुक्रवार को पुलिस जांच दल को वह जगह दिखाई थी, जहां पर उसने 20 जनवरी को इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) रखा था।पुलिस के अनुसार उसे चेन्नई भी ले जाया जाएगा क्योंकि उसने पूछताछ के दौरान बताया था कि उसने वहीं से देशी बम बनाने की सामग्री जुटायी थी। पुलिस ने बताया कि आरोपी ने टर्मिनल प्रबंधक को बम के लिए धमकी भरा कॉल करने की बात स्वीकार कर ली है। कॉल के बाद उसने सिम कार्ड फेंक दिया था और बेंगलुरु के लिए रवाना हो गया था, जहां उसने आत्मसमर्पण किया। पुलिस ने बताया कि उसे अभी तक सिम कार्ड नहीं मिल पाया है।

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ बताएं मध्यप्रदेश में कितने माफिया हैं, सूची जारी करें: शिवराज चौहान





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...