क्या कर्नाटक में फिर से कड़े प्रतिबंध होंगे लागू ? मंत्री ने 7 जुलाई के बाद नियमों में बदलाव के दिए संकेत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 29, 2020   18:44
क्या कर्नाटक में फिर से कड़े प्रतिबंध होंगे लागू ? मंत्री ने 7 जुलाई के बाद नियमों में बदलाव के दिए संकेत

बेंगलुरु में कोविड-19 प्रबंधन के प्रभारी मंत्री ने कहा कि विशेषज्ञों के अनुसार जुलाई और अगस्त में दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़ेंगे।

बेंगलुरु। कर्नाटक के राजस्व मंत्री आर अशोक ने सोमवार को कहा कि कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के मद्देनजर इस शहर और राज्य के अन्य हिस्सों में उसके प्रसार को नियंत्रित करने के लिए सात जुलाई के बाद और कड़े नियम लाये जाने की संभावना है। खबरों के अनुसार राज्य सरकार इस संक्रमण पर काबू पाने के लिए कुछ कठोर कदम उठाने के लिए चार जुलाई को एसएसएलसी की परीक्षा के समाप्त हो जाने का इंतजार कर रही है। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच अंतर-राज्यीय यात्रा पर रोक जैसी पाबंदियों के बारे में पूछे जाने पर अशोक ने कहा, ‘‘ इन सभी बातों के लिए मैं समझता हूं कि आपको बच्चों के हित में सात जुलाई तक प्रतीक्षा करनी होगी। सात जुलाई के बाद मुख्यमंत्री विभिन्न बदलाव करने का निर्णय लेंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक में 5 जुलाई से हर रविवार को रहेगा लॉकडाउन, विस्तार से जानें कौन-कौन से नियमों में हुई तब्दीली 

बेंगलुरु में कोविड-19 प्रबंधन के प्रभारी मंत्री ने कहा कि विशेषज्ञों के अनुसार जुलाई और अगस्त में दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़ेंगे यानी भारत और कर्नाटक एवं बेंगलुरू में भी इस महामारी के मरीज बढेंगे, इसलिए एहतियाती उपाय किये जायेंगे। हाल ही में कोरोना वायरस के मामलों में वृद्धि के बाद पिछले सप्ताह ऐसी अटकलें लगने लगीं थी कि सरकार फिर लॉकडाउन लगा सकती हैं और कुछ मंत्री इसका संकेत भी देने लगे थे लेकिन सरकार ने यह कहते हुए ऐसे किसी कदम से इनकार किया कि राज्य की अर्थव्यवस्था में सुधार लाना और विकास गतिविधियां चलाना उतना ही महत्वपूर्ण है। राज्य में रविवार को एक दिन में कोविड-19 के सर्वाधिक 1200 से अधिक नये मामले सामने आये थे और 16 मरीजों की जान चली गयी थी। राज्य में अब तक इस महामारी के मामले 13,190 हो गये जबकि 207 लोगों की जान इस बीमारी के चलते चली गयी।

इसे भी देखें: Coronavirus के मामले 5 लाख के पार, कई राज्य सरकारों ने बढ़ाया Lockdown 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।