राम मंदिर के बाद 6 दिसम्बर को निकाली जाएगी काशी-मथुरा मुक्ति यात्रा

राम मंदिर के बाद 6 दिसम्बर को निकाली जाएगी काशी-मथुरा मुक्ति यात्रा

श्री कृष्ण जन्मभूमि न्यास के पदाधिकारियों ने सरयू नदी लिया गया संकल्प, राम मंदिर के बाद श्री कृष्ण जन्मभूमि व काशी विश्वनाथ कराया जाए मुक्त, देश भर के भक्त इस आंदोलन में होंगे शामिल।

अयोध्या. राम जन्मभूमि परिसर में भव्य मंदिर का निर्माण शुरू हो चुका है। वहीं अब काशी व मथुरा को मुक्त कराए जाने को लेकर संघर्षों का है। जहां एक तरफ कोर्ट के माध्यम से कानूनी हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। तो वहीं श्री कृष्ण जन्मभूमि न्यास कारसेवा करने जा रही है। जिसके लिए 6 दिसंबर को श्री कृष्ण जन्म भूमि व काशी विश्वनाथ मुक्ति यात्रा से प्रारम्भ किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: अयोध्या: राम मंदिर परिसर में लगाई जाएंगी 55 देशों से आई शिलाएं!

राम मंदिर के बाद श्री कृष्ण जन्मभूमि व काशी विश्वनाथ को मुक्त कराए जाने के लिए देशभर के भक्तों को जुटाने का प्रयास श्री कृष्ण जन्म भूमि न्यास के द्वारा किया जा रहा है। इसको लेकर 6 दिसंबर 2021 को मथुरा से काशी तक के लिए मुक्ति यात्रा निकालेगी। जिसके लिए श्री कृष्ण जन्म भूमि न्यास के पदाधिकारी अयोध्या पहुंचे। जहां सरयू नदी में खड़े होकर संकल्प लेते हुए कहा कि जब तक काशी व मथुरा को मुक्त नहीं कराया जाएगा तब तक चैन से नहीं बैठेंगे। इस दौरान श्री कृष्ण जन्मभूमि न्यास प्रमुख तथा श्री कृष्ण जन्मभूमि के पक्षकार राजेश मणि त्रिपाठी, श्री कृष्ण जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन के सह प्रमुख गौरव वर्मा, राष्ट्रीय प्रचारक अवधेश दास जी, प्रदेश अध्यक्ष अजय सिन्हा, राष्ट्रीय सचिव मोहित मिश्रा,अपूर्व मिश्रा सहित अन्य कई पदाधिकारियों ने शपथ ली।

इसे भी पढ़ें: अखाड़ा परिषद अध्यक्ष की मौत पर महंत धर्मदास ने कहा, मानसिक उत्पीड़न किया गया, घटना की हो सीबीआई जांच

श्री कृष्ण जन्म भूमि मुक्ति दल के राष्ट्रीय सह प्रमुख गौरव वर्मा ने बताया कि भगवान श्री राम की पावन धरती तीर्थराज अयोध्या में सरयू नदी की पावन धारा में शपथ लिया गया। कि जब तक श्री कृष्ण जन्मभूमि तथा काशी विश्वनाथ हम आताताइयो से मुक्त नहीं करा लेते है। तब तक हम चैन से नहीं बैठेंगे ना इन जिहादियों को बैठने देंगे। हमारा संघर्ष अनवरत चलता रहेगा आज हम संवैधानिक तरीके मुक्ति के लिए कोर्ट में लड़ रहे है लेकिन अब हिंदू समाज बहुत दिनों तक इंतजार नहीं कर सकता सरकार से बार-बार मांग करने के बाद भी त्वरित कार्यवाही  हेतु कोई व्यवस्था नही दिया जाना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है इन्हीं सब बातों को लेकर के 6 दिसंबर 2021 से मथुरा काशी मुक्ति हेतु श्री कृष्ण जन्मभूमि काशी विश्वनाथ मुक्ति संकल्प यात्रा शुरू की जा रही है जिसमें देश के अधिकांश साधु संतों का सहयोग रहेगा। कहा कि जिस प्रकार से कारसेवकों ने श्री राम मंदिर को मुक्त कराया है उसी तरह अब कृष्ण जन्म भूमि को भी मुक्त कराने के लिए कारसेवा करेगी जिसके लिए सभी प्रदेशों से समर्थन मिल रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।