नेता प्रतिपक्ष कौशिक का सवाल, अमानक वर्मी कंपोस्ट खाद के लिए जिम्मेदार कौन?

dharamlal kaushik
नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए और दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जानी चाहिए। जिन किसानों को घटिया स्तर के वर्मी कंपोस्ट खाद दिए गए है उन्हें तत्काल मुआवजा प्रदान किया जाना चाहिए

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि पूरे प्रदेश में अमानक वर्मी कंपोस्ट खाद किसान खरीदने को विवश है आखिरकार इसके लिए जिम्मेदार कौन है? जब रासायनिक खाद की जांच के लिए व मिट्टी की जांच के लिए बकायदा लैबों की स्थापना की गई तो वर्मी कंपोस्ट खाद की जांच व मानक निर्धारित करने के लिए किसी तरह की लैब क्यों नहीं है और पूरे प्रदेश में घटिया स्तर के वर्मी कंपोस्ट खाद दिया जा रहा है जिसमें मिट्टी और मुरुम मिलने की शिकायतें लगातार मिल रही है। 

इसे भी पढ़ें: कोयला चोरी का वीडियो वायरल: धरमलाल कौशिक बोले- बयां कर रही गैंग्स ऑफ वासेपुर की कहानी

उन्होंने कहा कि प्रति एकड़ के हिसाब से एक हजार रुपए का खाद किसानों को दिया जा रहा है जिसमें भी वजन कम होने की शिकायत मिल रही है। आखिरकार इसके लिए जिम्मेदार कौन हैं? प्रदेश की कांग्रेस सरकार किसानों के हितैषी होने का दंभ भरते नहीं थकती लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है इन सबके बीच किसान घटिया स्तर के वर्मी खाद की खरीदी कर रही है जिसे सप्लाई करने में पूरा करने में एक गिरोह सक्रिय है। 

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: नेता प्रतिपक्ष कौशिक का तंज, मुख्यमंत्री की यात्रा मुन्नाभाई एमबीबीएस के तर्ज पर है

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए और दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जानी चाहिए। जिन किसानों को घटिया स्तर के वर्मी कंपोस्ट खाद दिए गए है उन्हें तत्काल मुआवजा प्रदान किया जाना चाहिए। इसके साथ ही इस अमानक वर्मी खाद की सप्लाई व उसकी बिक्री पर तत्काल ही प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए। पूरे प्रदेश में इस समय किसानों में घटिया स्तर के वर्मी खाद को लेकर भारी आक्रोश है। सही समय पर किसान प्रदेश की कांग्रेस सरकार को करारा जवाब देगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़