शरद पवार की विपक्षी दलों से अपील, बोले- मतभेदों को अलग रखकर भाजपा के खिलाफ हों एकजुट

Sharad Pawar
ANI Image
राकांपा प्रमुख शरद पवार ने पार्टी की अल्पसंख्यक इकाई की बैठक को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘यह कांग्रेस का कर्तव्य है...आपके अरविंद केजरीवाल से मतभेद हो सकते हैं , लेकिन हमारी वास्तविक लड़ाई भाजपा के साथ है। हमारी लड़ाई सांप्रदायिक ताकतों के साथ है।’’

नयी दिल्ली। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) अध्यक्ष शरद पवार ने मंगलवार को विपक्षी पार्टियों से अपने-अपने मतभेदों को अलग रख वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ एकजुट होने का आह्वान किया। उन्होंने आम आदमी पार्टी (आप) के साथ खड़े नहीं होने पर कांग्रेस को भी झिड़का। ‘आप’ दिल्ली आबकारी नीति 2021 में कथित अनियमितताओं को लेकर केंद्रीय एजेंसियों की जांच का सामना कर रही है।

इसे भी पढ़ें: क्या प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बन सकते हैं नीतीश कुमार ? ललन सिंह ने दिया यह जवाब 

पवार ने पार्टी की अल्पसंख्यक इकाई की बैठक को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘यह कांग्रेस का कर्तव्य है...आपके अरविंद केजरीवाल से मतभेद हो सकते हैं , लेकिन हमारी वास्तविक लड़ाई भाजपा के साथ है। हमारी लड़ाई सांप्रदायिक ताकतों के साथ है।’’ राकांपा प्रमुख ने कहा, ‘‘हमें कोई ऐसा कदम नहीं उठाना चाहिए जिससे प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से सांप्रदायिक ताकतों को लाभ मिले। यह बात हर किसी को याद रखनी चाहिए।’’ उन्होंने कहा, यहां तक कि आपातकाल के दौरान भी राजनीतिक पटल पर यह भावना थी कि अगले 25 साल तक कोई बदलाव नहीं हो सकता ,लेकिन जनता ने उसके अगले साल वर्ष 1977 में ही बदलाव की शुरुआत कर दी।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली से ‘हरी झंडी’ नहीं मिलने के कारण महाराष्ट्र मंत्रिमंडल विस्तार में देरी हो रही है: अजित पवार 

पवार ने कहा, ‘‘हम नेता भले चतुर नहीं हों, लेकिन आम जनता बुद्धिमान है। आम जनता वर्ष 2024 के चुनाव में भाजपा को सबक सिखाएगी।’’ उन्होंने कहा कि वह गैर भाजपा दलों को एकजुट करने का प्रयास करेंगे और ‘‘उन्हें अपने मतभेदों को किनारे रखकर एकसाथ काम करना चाहिए।’’ राकांपा अध्यक्ष ने याद दिलाया कि भाजपा केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, दिल्ली, राजस्थान, पंजाब और छत्तीसगढ़ की सत्ता में नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा, कर्नाटक, महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश की सत्ता में विधायकों को लालच देकर आई। पवार ने कहा, ‘‘ऐसी कृत्यों को जनता की मंजूरी नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि देश का 70 प्रतिशत हिस्सा भाजपा शासित नहीं है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़