Swati Maliwal Molestation Case | स्वाति मालीवाल के साथ हुई घटना को लेकर अरविंद केजरीवाल ने LG को घेरा, कहा- राजनीति छोड़कर कानून व्यवस्था पर ध्यान दें उपराज्यपाल

Swati Maliwal Molestation Case
ANI
रेनू तिवारी । Jan 20, 2023 11:11AM
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को उपराज्यपाल वीके सक्सेना से राजनीति छोड़कर राष्ट्रीय राजधानी में कानून व्यवस्था की स्थिति पर ध्यान देने की नसीहत दी है। DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल को परेशान करने और कथित तौर पर एक कार द्वारा घसीटे जाने के बाद यह घटनाक्रम सामने आया है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को उपराज्यपाल वीके सक्सेना से राजनीति छोड़कर राष्ट्रीय राजधानी में कानून व्यवस्था की स्थिति पर ध्यान देने की नसीहत दी है। DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल को परेशान करने और कथित तौर पर एक कार द्वारा घसीटे जाने के बाद यह घटनाक्रम सामने आया है।

इसे भी पढ़ें: Tripura में ‘लोकतंत्र बहाल’ करने के लिए कल रैली करेंगी माकपा, कांग्रेस

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि “दिल्ली में कानून और व्यवस्था की स्थिति का क्या हुआ? गुंडों का हौसला इतना बढ़ गया है कि महिला आयोग की अध्यक्ष भी सुरक्षित नहीं है। संविधान ने एलजी साहब को केवल यही काम दिया है। एलजी साहब से गुजारिश है कि कुछ दिनों के लिए राजनीति छोड़कर कानून व्यवस्था पर ध्यान दें। हम उनका पूरा सहयोग करेंगे।

इसे भी पढ़ें: Anshu Malik ने Brij Bhushan Singh पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप, कहा- हर लड़की को असहज कर देते थे...

डीसीडब्ल्यू प्रमुख स्वाति मालीवाल का गुरुवार तड़के करीब 3 बजे कार की खिड़की में हाथ फंस जाने के बाद नशे में धुत ड्राइवर ने कथित तौर पर छेड़छाड़ की और 10-15 मीटर तक घसीटा। दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल के साथ छेड़छाड़ करने और उन्हें घसीटने के आरोप में दिल्ली पुलिस द्वारा गुरुवार को गिरफ्तार किए गए हरीश चंद्र को दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। उनकी कार भी सीज कर दी गई।

डीसीपी साउथ, चंदन चौधरी ने कहा- चालक हरीश चंद्र ने अचानक कांच की खिड़की को बंद  कर लिया, जब मालीवाल उसे अपनी कार में बैठने के लिए कह रही थी। “लगभग 3.00 बजे, हमें सूचना मिली कि एम्स के पीछे की तरफ एक कैब ड्राइवर ने एक महिला से छेड़छाड़ की है। 20 मिनट में पीसीआर मौके पर पहुंची, उसके बाद सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) आए। आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और मेडिकल रिपोर्ट से पता चलता है कि वे शराब के नशे में थे। स्वाति मालीवाल सुरक्षित हैं"। दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक पीसीआर कर्मी स्वाति मालीवाल को नहीं पहचानते थे। अकेली महिला को देखकर पीसीआर कर्मियों ने उसकी गाड़ी रोक दी और पूछा कि वह अकेली क्यों है और कोई परेशानी तो नहीं है।

यह मामला कंझावला हिट-एंड-ड्रैग केस के कुछ हफ्तों बाद आया है, जहां 20 वर्षीय अंजलि सिंह को एक कार द्वारा 12 किलोमीटर तक घसीटा गया था। कंझावला हत्याकांड का जिक्र करते हुए, स्वाति मालीवाल ने कहा कि उनका भी अंजलि जैसा ही हश्र होता, जिसकी 1 जनवरी को एक कार द्वारा कथित रूप से टक्कर मारने और घसीटने के बाद मौत हो गई थी। उन्होंने कहा कि वह भाग्यशाली थीं कि वह बाल-बाल बच गईं।

मालीवाल ने कहा मैं निरीक्षण कर रही थी कि रात के समय दिल्ली महिलाओं के लिए कितनी सुरक्षित है। सफेद बलेनो चला रहा व्यक्ति नशे में था, भद्दे कमेंट्स करता था और आपत्तिजनक इशारे करता था। जब मैंने उसे पकड़ने की कोशिश की, तो उसने ड्राइवर की सीट का शीशा बंद कर दिया और मेरा हाथ में फँस गया। मुझे कई मीटर तक घसीटा गया। मैं भाग्यशाली थी, नहीं तो मेरा भी अंजलि जैसा हश्र होता।

मामला क्या है?

पुलिस के अनुसार, हरीश चंद्र के रूप में पहचाने जाने वाले चालक ने अचानक कांच की खिड़की को बंद कर लिया, जब मालीवाल उसे अपनी कार में बैठने के लिए कह रही थी। वह आदमी चला गया लेकिन फिर यू-टर्न लिया और संकरी समानांतर लेन लेते हुए वापस लौट आया। जब उसने उसे जबरदस्ती कार में बिठाने की कोशिश की तो वह उसे पकड़ने के लिए खिड़की तक पहुंच गई। हालांकि, उसने कथित तौर पर अपना हाथ फंसाते हुए खिड़की को बंद कर लिया।

अन्य न्यूज़