केरल के स्कूल शिक्षक को 29 साल की कठोर कैद की सजा, पहली कक्षा की छात्रा से किया था यौन शोषण

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 27, 2021   11:32
केरल के स्कूल शिक्षक को 29 साल की कठोर कैद की सजा, पहली कक्षा की छात्रा से किया था यौन शोषण

पहली कक्षा की छात्रा के यौन शोषण के जुर्म में शिक्षक को 29 साल कठोर कारावास की सजा सुनाई है।अभियोजन पक्ष के अनुसार, यह घटना 2012 में हुयी थी जब बच्ची साढ़े छह साल की थी और अपने दोस्तों के साथ अध्ययन के लिये स्कूल टूर पर बाहर गयी थी।

त्रिशूर।केरल के त्रिशूर की एक विशेष फास्ट ट्रैक अदालत ने पहली कक्षा की छात्रा का यौन शोषण करने के जुर्म में एक शिक्षक को 29 साल कठोर कारावास की सजा सुनायी है। अदालत ने यहां कहा कि शिक्षक ने जो अपराध किया है वह अमानवीय और बर्बर है। अदालत ने कहा, ‘‘साढ़े छह साल की मासूम बच्ची के साथ दोषी का यह घिनौना कृत्य निश्चित रूप से कठोर सजा की मांग करता है और इसी वजह से उसे मैंने यह सजा देने का निर्णय किया है।’’ बच्ची ने अपने माता- पिता को सारा कृत्य बताया, जिसके बाद उन्होंने शिकायत दर्ज करायी।

इसे भी पढ़ें: चार दिन तक बंधक बनाकर लड़की से करता रहा रेप, दोस्त करता था चौकीदारी

अदालत ने कहा कि एक शिक्षक को ज्ञान, बुद्धि और जीवन के उत्तम गुणों का अवतार माना जाता है। इसने अपने फैसले में कहा, ‘‘गुरू एक दोस्त, एक दार्शनिक, मार्गदर्शक, सामाजिक इंजीनियर और राष्ट्र-निर्माता माना जाता है। भारतीय दर्शन में गुरू को उच्च स्थान प्राप्त है। उनका प्रभाव केवल एक व्यक्ति तक सीमित नहीं है, बल्कि वह जीवन के सभी क्षेत्रों में परिवारों, संस्थानों और शिक्षा प्रतिष्ठानों तक फैला हुआ है। वह ज्ञान प्रदान करते हैं, जीवन के मूल्यों की शिक्षा देते हैं, स्वयं राष्ट्र का मार्गदर्शन और निर्माण करते हैं।’’ अभियोजन पक्ष के अनुसार, यह घटना 2012 में हुयी थी जब बच्ची साढ़े छह साल की थी और अपने दोस्तों के साथ अध्ययन के लिये स्कूल टूर पर बाहर गयी थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।