महाराष्ट्र में भी हो रहा खेला, वहां विकास नहीं वसूली हो रही है: रविशंकर प्रसाद

Ravi Shankar Prasad
अंकित सिंह । Mar 23, 2021 4:36PM
रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा कि भारत के इतिहास में ये पहली बार हुआ कि किसी पुलिस कमिश्नर ने लिखा कि राज्य के गृह मंत्री जी ने मुंबई से 100 करोड़ रुपये महीना वसूली का टार्गेट तय किया है। जब एक मंत्री का टार्गेट 100 करोड़ रुपये है तो बाकी के मंत्रियों का कितना होगा?

महाराष्ट्र मुद्दे पर राजनीति लगातार जारी है। भाजपा महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार पर जबरदस्त तरीके से हमलावर है। भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इसी मसले को लेकर दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में भी खेला हो रहा है। उन्होंने कहा कि अभी मैंने देखा कि महाराष्ट्र एटीएस की टीम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस किया जहां उन लोगों ने सिर्फ बयान दिया, कोई सवाल ही नहीं लिया। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि महाराष्ट्र में जो कुछ भी हो रहा है वह विकास नहीं है बल्कि वसूली है।

रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा कि भारत के इतिहास में ये पहली बार हुआ कि किसी पुलिस कमिश्नर ने लिखा कि राज्य के गृह मंत्री जी ने मुंबई से 100 करोड़ रुपये महीना वसूली का टार्गेट तय किया है। जब एक मंत्री का टार्गेट 100 करोड़ रुपये है तो बाकी के मंत्रियों का कितना होगा? पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस जी ने कुछ दस्तावेजों के साथ कहा है कि ट्रांसफर और पोस्टिंग के नाम पर भी वसूली चल रही थी। वो भी छोटे मोटे ऑफिसर्स की ही नहीं बल्कि बड़े बड़े IPS ऑफिसर्स की भी।

इसे भी पढ़ें: फडणवीस का आरोप, देशमुख के बारे में शरद पवार को नहीं दी गई सही जानकारी

महाराष्ट्र जैसे राज्य में बड़े अधिकारियों की पोस्टिंग में वसूली हो रही है, तो हमें लगा मुख्यमंत्री कार्रवाई करेंगे। लेकिन दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के बजाय, एक ईमानदारी महिला अधिकारी को सिविल डिफेंस का डीजीपी बना दिया। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सचिन वाजे सस्पेंडेड था, करीब 15-16 वर्षों तक, वो शिवसेना का सदस्य बनता है। उसे कोरोना काल में reinstate करते हैं। उसके बाद उन्हें ही 100 करोड़ वसूली का टार्गेट दिया जाता है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़