बस्ती में कपड़ा व्यापारी के बेटे को किया गया मुक्त, गिरफ्तार हुए अपहरणकर्ता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2022   11:32
बस्ती में कपड़ा व्यापारी के बेटे को किया गया मुक्त, गिरफ्तार हुए अपहरणकर्ता
Google common license

23 अप्रैल को अखंड से अपहरणकर्ताओं ने यह बहाना बनाया कि उनकी गाड़ी का टायर पंचर हो गया है चल कर उसे बनवा दें, इसलिए वह बच्चा उनकी बाइक पर बैठ गया और इसके बाद उसे अपहृत कर लिया गया। अपहरणकर्ताओं ने अपहरण के बाद व्यापारी से 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी।

बस्ती (उप्र)। बस्ती जिले में सप्ताह भर पहले अपहृत कपड़ा व्यापारी के 13 वर्षीय पुत्र को पुलिस ने अपहरणकर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराकर दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस अधीक्षक बस्ती आशीष श्रीवास्तव ने शनिवार को बताया कि 23 अप्रैल को बस्ती के थाना रुधौली से अपहृत हुए अखंड कसौधन (13) को बस्ती पुलिस और विशेष कार्यबल (एसटीएफ) की टीम ने सकुशल बरामद कर लिया और दो अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि बस्ती के कारोबारी अशोक कुमार कसौधन के पुत्र अखंड कसौधन को अपहरणकर्ताओं ने गोरखपुर के सहजनवा में छिपाकर रखा था।

इसे भी पढ़ें: पटियाला झड़प में बड़ा एक्शन! आईजी, एसएसपी समेत तीन पुलिस अधिकारियों का तबादला

अखंड की बरामदगी के लिए सक्रिय टीम ने सूचना के आधार पर उसे बरामद कर लिया। पुलिस ने अपहरणकर्ता दो सगे भाइयों आदित्य सिंह और सूरज सिंह को गिरफ्तार कर लिया। श्रीवास्तव ने बताया कि पूछताछ के दौरान अपहर्ताओं ने कहा कि अखंड कसौधन के पिता अशोक कुमार के कारोबार में वे लोग आपूर्ति करते थे, जिसके कारण वह बच्चे को भी भली प्रकार जानते थे। 23 अप्रैल को अखंड से अपहरणकर्ताओं ने यह बहाना बनाया कि उनकी गाड़ी का टायर पंचर हो गया है चल कर उसे बनवा दें, इसलिए वह बच्चा उनकी बाइक पर बैठ गया और इसके बाद उसे अपहृत कर लिया गया। अपहरणकर्ताओं ने अपहरण के बाद व्यापारी से 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी। पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने यह भी बताया कि उनपर कर्ज का दबाव था, जिसे चुकाने के इरादे से उन्होंने बच्चे का अपहरण कर लिया। बच्चे को गोरखपुर जिले के सहजनवा कस्बे में छिपा कर रखा गया। पुलिस ने अखंड को परिजनों को सुपुर्द कर दिया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अभियुक्तों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत भी कार्यवाही की जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।