राज्यपाल से मिले किरीट सोमैया, कहा- अब डर गए हैं पुलिस आयुक्त संजय पांडे, उन पर भी होगी कार्रवाई

राज्यपाल से मिले किरीट सोमैया, कहा- अब  डर गए हैं पुलिस आयुक्त संजय पांडे, उन पर भी होगी कार्रवाई
ANI

किरीट सोमैया ने कहा कि मुझ पर हमला हुआ पत्थर फेंके गए, उस समय सारी पुलिस खार पुलिस स्टेशन के अंदर छिप गई थी सिर्फ कमांडो ने मेरी जान बचाई। क्या ये पुलिस आयुक्त उद्धव ठाकरे के परिवार के पुलिस आयुक्त हैं?

महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा विवाद के बीच पिछले शनिवार को मुंबई में कथित तौर पर शिवसैनिकों ने भारतीय जनता पार्टी के नेता किरीट सोमैया पर हमला किया था। जिसके बाद बीते दिन सोमैया ने दावा किया कि खार पुलिस स्टेशन ने उनके नाम पर एक झूठी प्राथमिकी दर्ज की है। जिसके बाद आज सोमैया ने सूबे के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की है। उन्होंने कहा कि हमने राज्यपाल से मिलकर कहा है कि जिस प्रकार से मुंबई पुलिस आयुक्त संजय पांडे को मैंने बताया था कि मुझ पर जानलेवा हमला होने वाला है और उसी दिन पुलिस आयुक्त ने 80 शिवसेना के गुंडों को कैंपस में घूमने का आदेश दिया था।

इसे भी पढ़ें: हनुमान चालीसा विवाद : संजय राउत का दावा, महाराष्ट्र में सरकार बनाने में असमर्थता से बेचैन भाजपा

किरीट सोमैया ने कहा कि मुझ पर हमला हुआ पत्थर फेंके गए, उस समय सारी पुलिस खार पुलिस स्टेशन के अंदर छिप गई थी सिर्फ कमांडो ने मेरी जान बचाई। क्या ये पुलिस आयुक्त उद्धव ठाकरे के परिवार के पुलिस आयुक्त हैं? अब पुलिस आयुक्त संजय पांडे डर गए हैं, उनके ऊपर कार्रवाई होगी। भाजपा नेता ने यह भी कहा कि मुंबई पुलिस ने उद्धव ठाकरे और पुलिस कमिश्नर संजय पांडे के दबाव में मेरे नाम एक झूठी एफआईआर दर्ज कर दी है। उस एफआईआर में पुलिस ने लिखा है कि किरीट सोमैया ने ऐसा कहा कि मेरी गाड़ी पर सिर्फ एक पत्थर आया जबकि 70-80 शिवसैनिकों ने मुझ पर हमला किया।

इसे भी पढ़ें: थाने में चाय पीते नजर आ रहे हैं राणा दंपत्ति, नवनीत राणा ने पुलिस पर लगाए थे पानी तक नहीं देने के आरोप

सौमेया ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि खार पुलिस स्टेशन ने माना है कि पुलिस ने मेरे नाम पर झूठी प्राथमिकी दर्ज की है। मुझ पर हमला करने वाले शिवसेना के गुंडों को बचाने के लिए फर्जी प्राथमिकी। सोमैया ने सोमवार को आरोप लगाया था कि बांद्रा पुलिस स्टेशन ने उनके नाम से झूठी प्राथमिकी दर्ज की है। सोमैया ने ट्वीट किया था मुंबई पुलिस ने 23 अप्रैल को हुए हमले के बारे में मेरी एक 'फर्जी प्राथमिकी' प्रसारित की। मैंने कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की है। बांद्रा पुलिस स्टेशन ने 23 अप्रैल को मेरी प्राथमिकी दर्ज करने से इनकार कर दिया। मैं कल दोपहर 12 बजे खार पुलिस स्टेशन में फर्जी एफआईआर की इस आपराधिक साजिश के खिलाफ शिकायत दर्ज कराऊंगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।