सलमान-2G केस में वकील, तीन तलाक पर दिया था अहम फैसला, जानें कौन हैं जस्टिस यूयू ललित जो बन सकते हैं देश के अगले CJI

UU Lalit
ANI
अभिनय आकाश । Aug 04, 2022 2:00PM
जस्टिस ललित महाराष्ट्र के रहने वाले हैं और कई चर्चित केसों से भी जुड़े रहे हैं। इसमें काला हिरण शिकार मामले में अभिनेता सलमान खान का केस भी शामिल है। उन्होंने भ्रष्टाचार के एक मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और अपनी जन्मतिथि से जुड़े मामले में पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह का भी प्रतिनिधित्व किया है।

भारत के प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण ने गुरुवार को सरकार से अपने उत्तराधिकारी के रूप में न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित के नाम की सिफारिश की है। सुप्रीम कोर्ट के आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि सीजेआई ने गुरुवार को "सुबह" न्यायमूर्ति ललित को "व्यक्तिगत रूप से 03.08.2022 की सिफारिश के अपने पत्र की एक प्रति" सौंपी। इंडियन एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में कहा कि सीजेआई सचिवालय को 3 अगस्त को केंद्रीय कानून और न्याय मंत्री के कार्यालय से एक संचार प्राप्त हुआ। इसमें चीफ जस्टिस से उत्तराधिकारी के नाम की सिफारिश करने का अनुरोध किया गया था।

इसे भी पढ़ें: जज एके लाहोटी, फोरेंसिक एक्सपर्ट ने सबूत का किया मुआयना, मालेगांव ब्लास्ट में इस्तेमाल हुई बाइक प्रज्ञा ठाकुर के नाम पर थी रजिस्ट्रर्ड

परंपरा के अनुसार, मौजूदा सीजेआई अपने उत्तराधिकारी के नाम की सिफारिश तभी करते हैं जब उन्हें कानून मंत्रालय से ऐसा करने का आग्रह किया जाता है। सीजेआई रमना 26 अगस्त को सेवानिवृत्त हो रहे हैं, जिसके बाद न्यायमूर्ति ललित भारत के 49वें मुख्य न्यायाधीश का पद संभालेंगे। उनका कार्यकाल बेहद छोटा रहने वाला है और वो 8 नवंबर, 2022 तक इस पद पर बने रहेंगे। वर्तमान में सर्वोच्च न्यायालय के दूसरे सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति ललित ने जून 1983 में एक अधिवक्ता के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी।

इसे भी पढ़ें: SC से उद्धव गुट को मिली फौरी राहत, शिंदे कैंप की अर्जी पर कोर्ट का चुनाव आयोग को अहम निर्देश

जस्टिस ललित महाराष्ट्र के रहने वाले हैं और कई चर्चित केसों से भी जुड़े रहे हैं। इसमें काला हिरण शिकार मामले में अभिनेता सलमान खान का केस भी शामिल है। उन्होंने भ्रष्टाचार के एक मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और अपनी जन्मतिथि से जुड़े मामले में पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह का भी प्रतिनिधित्व किया है। पांच जजों की पीठ में 3-2 के बहुमत से इस पर फैसला हुआ था और जस्टिस ललित ने 'तीन तलाक' को असंवैधानिक करार दिया था। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़