कोलकाता विश्वविद्यालय 45 वर्ष से ऊपर के सभी कर्मचारियों को टीका लगवाएगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2021   13:13
कोलकाता विश्वविद्यालय 45 वर्ष से ऊपर के सभी कर्मचारियों को टीका लगवाएगा

पश्चिम बंगाल में कोविड-19 मामलों के अचानक बढ़ जाने के मद्देनजर कलकत्ता विश्वविद्यालय 45 साल से अधिक उम्र के अपने सभी कर्मचारियों को टीका लगवाने का फैसला किया है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में कोविड-19 मामलों के अचानक बढ़ जाने के मद्देनजर कलकत्ता विश्वविद्यालय 45 साल से अधिक उम्र के अपने सभी कर्मचारियों को टीका लगवाने का फैसला किया है। विश्वविद्यालय के एक शीर्ष अधिकारी ने यह जानकारी दी। कुलपति सोनाली चक्रवर्ती बनर्जी ने शनिवार को पीटीआई-से कहा कि यह बेहद संक्रामक वायरस से बचने के लिए तथा यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है कि 45 वर्ष से अधिक के कर्मचारियों को इसका जोखिम नहीं हो।

इसे भी पढ़ें: तेलंगाना में कोरोना वायरस के 7,432 नए मामले, 33 संक्रमितों की मौत

कुलपति ने कहा कि टीकाकरण अभियान के लिए निधि विश्वविद्यालय उपलब्ध कराएगा और यह दो परिसरों में होगा। एक केंद्र राजाबाजार साइंस कॉलेज में होगा जहां 27 और 30 अप्रैल को टीकाकरण किया जाएगा जबकि दूसरा केंद्र बालीगंज साइंस कॉलेज कैंपस होगा जहां 28 और 29 अप्रैल को टीकाकरण होगा। विश्वविद्यालय अधिकारियों ने कहा कि टीका लगवाने के लिए सबको व्यक्तिगत तौर पर सहमति देनी होगी।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने ई-संपत्ति कार्डों के वितरण की शुरूआत की, कहा- हमारा प्रयास है कि गाँव समर्थ हों, आत्मनिर्भर हों

विश्वविद्यालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि कलकत्ता विश्वविद्यालय पश्चिम बंगाल का एकमात्र सरकारी विश्वविद्यालय है जिसने अपने कर्मचारियों के लिए पूर्ण टीकाकरण अभियान को चुना है। प्रवक्ता ने कहा, “कक्षाएं ऑनलाइन हो रही हैं लेकिन कुछ कर्मचारियों को प्रशासनिक एवं अन्य कार्यों के लिए आना पड़ता है। हमने कोरोना वायरस के दोबारा प्रसार के बाद आने वाले कर्मचारियों की संख्या आधी कर दी है लेकिन प्रशासनिक कार्यों के लिए हम कार्यालय को बंद रखने का जोखिम नहीं ले सकते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।