बच्चों की मौतों के लिए कुशवाहा ने नीतीश को ठहराया जिम्मेदार, मांगा इस्तीफा

kushwaha-upheld-nitish-kumar-s-resignation-for-children-death
कुशवाहा ने कहा कि मुख्यमंत्री केवल आश्वासन देते हैं। उद्देश्य की पूर्ति नहीं करते। या तो आप कार्य करें या मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दें।

पटना। पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) से बड़ी संख्या में बच्चों की मौत के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जिम्मेदार ठहराते हुए उनके इस्तीफे की मांग की है। कुशवाहा ने पटना स्थित रालोसपा के प्रदेश मुख्यालय में रविवार को पत्रकारों को संबोधित करते हुए मुजफ्फरपुर में बड़ी संख्या में बच्चों की मौत के लिए नीतीश को जिम्मेदार ठहराया और आरोप लगाया कि बच्चों की मौत के बावजूद राज्य सरकार ने इसे रोकने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया है। पूरी स्वास्थ्य सेवाओं को भगवान भरोसे छोड़ दिया गया है।

कुशवाहा ने कहा,  मुख्यमंत्री केवल आश्वासन देते हैं। उद्देश्य की पूर्ति नहीं करते। या तो आप कार्य करें या मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दें।’’ उन्होंने कहा कि रालोसपा नीतीश की असफलताओं को उजागर करने के लिए सड़कों पर उतरेगी। कुशवाहा ने राज्य सरकार पर चिकित्सकों के सभी स्वीकृत पदों को भरने में विफल रहने का आरोप लगाया। उन्होंने केंद्र और बिहार सरकार पर स्वास्थ्य सेवा में सुधार को लेकर केवल घोषणाएं करने का आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री द्वारा चार साल पहले की गई घोषणाओं को पूरा किया जाना अभी बाकी है।

इसे भी पढ़ें: चमकी बुखार से 147 बच्चों की मौत, SKMCH में तैनात डॉक्टर सस्पेंड

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के इस मुद्दे पर कुछ भी नहीं बोलने के बारे में पूछे जाने पर कुशवाहा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, जो गृह मंत्री भी हैं, ने भी बच्चों की मौत पर शोक व्यक्त नहीं किया है। उन्होंने कहा कि यह उनकी असंवेदनशीलता को दर्शाता है। यह प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी है, उन्हें मामले का संज्ञान लेना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़